बीजिंग, रायटर्स। चीन के एक सरकारी वैज्ञानिक ने शनिवार को कहा कि अगले दो या तीन महीनों में चीन में दोबारा COVID-19 के बढ़ने की संभावना कम है क्योंकि 80% लोग संक्रमित हो चुके हैं। चाईना सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के मुख्य महामारी वैज्ञानिक ने कहा कि ल्यूनर नव वर्ष की छुट्टियों के दौरान बड़ी संख्या में लोगों ने सफर किया है जिसमें महामारी फैल सकती है, जिससे कुछ क्षेत्रों में संक्रमण बढ़ सकता है, लेकिन दूसरी कोविड लहर की संभावना नहीं है।

ग्रामीण इलाकों में बढ़ा है संक्रमण का खतरा

चीन में सभी प्रतिबंध लगभग हटा दिए गए हैं, यहां तक की सीमा को एक बार फिर खोल दिया गया है जिसके बाद लाखों की संख्या में छुट्टियों में एक-दूसरे से मिल रहे हैं। इससे ग्रामीण इलाकों में संक्रमण फैलने का खतरा थोड़ा बढ़ गया है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग के एक अधिकारी ने गुरुवार को कहा कि चीन ने क्लीनिक, आपातकालीन कक्ष और गंभीर स्थिति में कोविड मरीजों की संख्या की चरम सीमा को पार कर लिया है। लगातार यहां पर मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है।

नहीं मिल रहे मौत के सही आंकड़े

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, चीन द्वारा अपनी शून्य-कोविड नीति को अचानक समाप्त करने के लगभग एक महीने बाद, 12 जनवरी तक कोविड से संक्रमित 60,000 लोगों की अस्पताल में मौत हो गई थी। लेकिन कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि यह आंकड़ा सही नहीं है क्योंकि यह आंकड़ा केवल अस्पताल में मरने वालों का है, जो लोग घर में मर जाते हैं उनकी गिनती नहीं की जाती है।

चीन ने पश्चिमी मीडिया पर लगाया आरोप

चीन के जीरो-कोविड नीति को वापस लेने के बाद से कई देशों में चिंता है कि यह एक बार संक्रमण बढ़ने का सबसे बड़ा कारण बन सकता है। इसलिए कई देशों ने चीन से यात्रा करने वालों के लिए नियम काफी सख्त कर दिए गए हैं। साथ ही अन्य कई सख्त नियम बनाए गए हैं। हालांकि, चीन ने पश्चिमी मीडिया पर देश की कोविड नीति को लेकर पक्षपात और बदनाम करने का आरोप लगाया है। चीन ने कहा है कि मीडिया समूह चीन की जीरो कोविड नीति को अचानक समाप्त करने की बेवजह आलोचना कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: चीन ने कोविड नीति को लेकर कुछ पश्चिमी मीडिया की रिपोर्ट को बताया पक्षपातपूर्ण

Covid-19 in China: चीन में फिर कोरोना का खतरा! लूनर न्यू ईयर पर घर लौट रहे प्रवासियों से बढ़ेंगी मुश्किलें

Edited By: Shalini Kumari

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट