हांगकांग, रायटर्स। हांगकांग के एक हजार से अधिक स्कूल शिक्षकों ने शनिवार को सरकार विरोधी प्रदर्शनों का ऐलान किया है। ये विरोध प्रदर्शन एक सप्ताह तक चलेगा। हालांकि कुछ प्रदर्शनकारियों को डर था कि पुलिस उनके खिलाफ सड़कों पर कठिन रणनीति अपना सकती हैं। पिछले कुछ दिनों के दौरान प्रदर्शन के दौरान हिंसा में वृद्धि देखने को मिली। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि वे एक देश, दो सिस्टम व्यवस्था के लिए लड़ रहे हैं, जिसने हांगकांग के लिए कुछ स्वायत्तता सुनिश्चित की क्योंकि चीन ने इसे 1997 में ब्रिटेन से वापस ले लिया था।

शिक्षिका ने की बच्चों के विरोध प्रदर्शन की सराहना 
पिछले सप्ताह के दौरान उन्होंने पुलिस के प्रति आक्रोश दिखाया। दरअसल, पुलिस ने उन्हें सड़कों से हटाने के लिए उग्रता के साथ जवाब दिया।  40 वर्ष  एक स्थानीय माध्यमिक विद्यालय में संगीत शिक्षिका यू ने कहा कि वह छात्रों के विरोध का समर्थन करती है। हालांकि वह फिर भी उनके द्वारा उठाए गए सभी कार्यों से सहमत नहीं थी। उन्होंने कहा कि मैं उनके साहस की सराहना करती हूं और हांगकांग के बारे में परवाह करती हूं।

ये भी पढ़ें- दुनिया को है डर कहीं चीन हांगकांग में भी न दोहरा दे थियानमेन चौक की कहानी

पुलिस ने दी थी शिक्षिकों को प्रदर्शन की अनुमति
बता दें कि शिक्षकों की रैली को पुलिस ने अनुमति दे दी थी और उनकी रैली बेहद ही शांतिपूर्ण थी। केंद्रीय व्यापार जिले में इकट्ठा होने के बाद उन्होंने हांगकांग के दूतावास नेता कैरी लैम के सरकारी आवास तक मार्च किया और नारा लगाया कि 'हांगकांग पुलिस कानून जानती है, वे कानून तोड़ते हैं'।

ये भी पढ़ें-  हांग कांग ने की टैक्‍स में कटौती ताकि मजबूत हो अर्थव्‍यवस्‍था

जानकारी के लिए बता दें कि लोकतंत्र समर्थकों का आंदोलन तीन महीनों से लगातार जारी है। इससे पहले रिपोर्टों में यह कहा गया था कि हांगकांग में लोकतंत्र समर्थकों ने अपने प्रदर्शन की रणनीति बदल दी है। वे अब पुलिस-प्रशासन से सीधे भिड़ने के बजाय ‘हिट एंड रन’ की तरह प्रदर्शन को अंजाम दे रहे हैं।

  विदेश की बाकी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

जीतेगा भारत हारेगा कोरोन

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस