वाशिंगटन, आइएएनएस। अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा की अंतरिक्ष यात्री क्रिस्टीना कोच और जेसिका मीर ने शुक्रवार को अंतरराष्ट्रीय स्पेस सेंटर (आइएसएस) के बाहर चहलकदमी (स्पेसवॉक) कर इतिहास रच दिया है। यह पहली बार है, जब सिर्फ महिला अंतरिक्ष यात्रियों की टीम ने आइएसएस के बाहर चहलकदमी की है। इस अभियान को लेकर नासा ने कहा, ‘महिला अंतरिक्ष यात्रियों की जोड़ी का यह मिशन मील का पत्थर है। यह और भी महत्वपूर्ण इसलिए हो जाता है क्योंकि एजेंसी 2024 तक पहली महिला को चांद पर भेजने की दिशा में कदम बढ़ा रही है।’

नासा के मुताबिक कोच चौथी बार स्पेसवॉक कर रही हैं। वहीं मीर पहली बार इस तरह के अभियान का हिस्सा बनी हैं। दोनों को इस अभियान के दौरान आइएसएस के खराब पड़े पॉवर कंट्रोलर ‘बैट्री चार्ज-डिसचार्ज यूनिट’ को बदलना था। यह यूनिट 11 अक्टूबर से ही खराब था लेकिन, इससे स्टेशन में चल रहे शोध या वहां मौजूद अंतरिक्ष यात्रियों की सुरक्षा प्रभावित नहीं हुई थी। यूनिट को बदलने के लिए दोनों भारतीय समयानुसार शाम पांच बजे आइएसएस से बाहर आई थीं।

मार्च में ही होना था अभियान

सिर्फ महिलाओं द्वारा अंतरिक्ष में चहलकदमी का यह अभियान गत मार्च में ही होना था। नासा के अनुसार, क्रिस्टीना कोच के साथ एनी मैकक्लेन उस अभियान का हिस्सा थीं। हालांकि, उपयुक्त स्पेससूट ना होने की वजह से उसे टाल दिया गया था। लेकिन अब उसकेे हिसाब से spacesuit उपलब्ध हो चुके हैं, इस वजह से इसी माह इसका आयोजन किया जा रहा है।

स्टेशन की मरम्मत के लिए अब तक का 221 वां स्पेसवॉक

आइएसएस व उसमें लगे उपकरणों की मरम्मत के लिए अब तक कुल 221 स्पेसवॉक हुए हैं। इस साल आठ बार इसी वजह से अंतरिक्ष यात्रियों ने स्टेशन के बाहर चहलकदमी की थी। इन अभियानों में पुरुष अंतरिक्ष यात्रियों के साथ पहले भी कई महिलाओं ने हिस्सा लिया था। अब तक 15 महिलाएं पुरुषों के साथ 42 स्पेसवॉक में शामिल हो चुकी हैं।

यह भी पढ़ें:-

नासा इसी माह पहली बार महिलाओं की टोली को कराएगा स्पेसवॉक, तैयारी पूरी

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस