वाशिंगटन, एजेंसी: टेक्सास के फोर्ट वर्थ में रहने वाली 53 वर्षीय मेलानी वाल्डन को एक डीएनए मिलान की वजह से अपहरण के 51 वर्ष बाद अपना परिवार मिल गया है। कई शादियों से अब उसके तीन संतानें हैं। 1971 में जब उसका अपहरण हुआ था तब वह करीब 21 माह की थी। जेफरी हाईस्मिथ और अल्टा अपेंटेंको की बेटी बेबी मेलिसा का एक अज्ञात महिला ने 23 अगस्त, 1971 को अपहरण कर लिया था। दोनों ने अपनी बेटी की खूब तलाश की, लेकिन वह नहीं मिली। उन्होंने उम्मीद नहीं छोड़ी और लगातार तलाश करते रहे।

यह भी पढ़े: चीन में ओमिक्रॉन के वेरिएंट BA.5, BA.7 और XBB से बढ़े केस-मौतें, भारत के 98% लोगों में हर्ड इम्युनिटी ने बचाया

डीएनए जांच के बाद हुई पहचान

इस साल जेफरी को खबर मिली कि उनके डीएनए का उनके किसी अज्ञात नाती से मिलान हुआ है। इसकी जानकारी उन्हें क्लीनिकल लेबोरेट्री की विज्ञानी लिजा जो ने दी थी। इसके बाद जेफरी और उनके अन्य बच्चों ने फेसबुक के जरिये मेलानी से संपर्क किया। पहले तो मेलानी ने इस पर विश्वास नहीं किया और उनके संदेशों को किसी फ्राड का तरीका समझा। लेकिन जब जेफरी ने उसे डीएनए मिलान के साक्ष्य दिखाए तो मेलानी को भरोसा हुआ। मेलानी फिलहाल चर्चों में सफाई का काम करती है। अपने परिवार से मिलकर वह बहुत खुश है और उसका कहना है कि अब अपना नाम बदलकर फिर मेलिसा हाई स्मिथ रख लेगी। मिलन की यह कहानी सामने आने के बाद मीडिया में छा गई है। साथ ही पुलिस पर उसके अपहरण के मामले की जांच करने का दबाव भी डाला जा रहा है।

यह भी पढ़े: Fact Check : सावरकर पर बनी डॉक्युमेंट्री के वीडियो को अंडमान जेल का बताकर किया जा रहा शेयर

Edited By: Amit Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट