कोलकाता, प्रेट्र । Nabaneeta Dev Sen passes away प्रसिद्ध साहित्यकार एवं नोबेल पुरस्कार विजेता अर्थशास्त्री डॉ. अमर्त्य सेन की पहली पत्नी 81 वर्षीया नवनीता सेन का गुरुवार शाम दक्षिण कोलकाता में उनके निवास पर निधन हो गया। साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता और पदमश्री से सम्मानित श्रीमति सेन काफी लंबे समय से बीमार चल रही थीं, उनके परिवार में उनकी दो बेटियां अंतारा और नंदना हैं।

श्रीमति सेन का जन्म 13 जनवरी, 1938 को कोलकाता में नरेंद्रनाथ देव और राधारानी देवी के घर हुआ था। उनके माता-पिता दोनों ही कवि थे। उन्होंने कोलकाता के प्रेसीडेंसी कॉलेज से स्नातक किया था। नवनीता सेन एक कवयित्री के साथ-साथ उपन्यासकार और कथाकार भी थीं। एक कवि, एक उपन्यासकार, एक स्तंभकार और लघु कथाओं और यात्रा वृतांतों के लेखक, देव सेन को रामायण पर उनके शोध के लिए भी जाना जाता था। श्रीमति सेन ने अमेरिका में ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय और कोलोराडो कॉलेज में एक शिक्षिका के रूप में भी कार्य किया। देव सेन ने यहां जादवपुर विश्वविद्यालय में तुलनात्मक साहित्य भी पढ़ाया। देव सेन ने 1958 में नोबेल पुरस्कार विजेता अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन से शादी की। 1976 में उनका तलाक हो गया।

साहित्य अकादमी व पद्मश्री से सम्मानित

बांग्ला की प्रसिद्ध साहित्यकार नवनीता देव सेन को वर्ष 1999 में 'नटी नवनीताÓ के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। इसके बाद वर्ष 2000 में उन्हें पदमश्री सम्मान से भी सम्मानित किया गया था। इसक अतिरिक्त भी अपने पूर जीवन काल में उन्हें श्रीमति सेन को उनकी विभिन्न साहित्यक रचनाओं के लिए कई बार सम्मानिता किया गया था। 

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने जताया शोक

इस साल नोबेल जीतने वाले अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी ने पिछले महीने शहर में अपने अल्प प्रवास के दौरान देव सेन से उनके आवास पर मुलाकात की थी। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने देव सेन की मृत्यु पर दुख की इस घड़ी में उनके परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए ट्वीट किया कि प्रसिद्ध साहित्यकार और अकादमिक नवनीता देव सेन केनिधन से दुखी हूं, कई पुरस्कार विजेता श्री मति सेन की अनुपस्थिति उनके असंख्य छात्रों और शुभचिंतकों द्वारा महसूस की जाएगी। 

मिली जानकारी के अनुसार श्रीमति सेन कैंसर से पीडि़त थीं। उनका स्वास्थ्य दिनोंदिन खराब होता जा रहा था, कुछ दिनों से वो बोल भी नहीं पा रही थीं। गुरुवार शाम को 7 बजकर 35 मिनट पर उन्होंने अंतिम सांस ली। प्रख्यात अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन से उनका विवाह सन 1959 में हुआ था। 

Himachal Weather Update: बर्फबारी और बारिश से हिमाचल में शीतलहर तेज, ठिठुरने लगे लोग

 

Posted By: Babita kashyap

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप