राज्य ब्यूरो, कोलकाता। भाजपा नीत राष्ट्रीय गणतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू के नौ जुलाई को बंगाल दौरे से पहले भाजपा के विधानसभा में चीफ व्हिप मनोज तिग्गा ने सोमवार को कहा कि वह आदिवासी उम्मीदवार के लिए प्रचार करेंगे। उन्होंने कहा कि भाजपा एकमात्र ऐसी पार्टी है जिस ने न सिर्फ लोगों खासकर पिछड़े वर्ग के उत्थान की बात कहती है, बल्कि करती भी है।

भाजपा ने यह भी संदेश दिया कि आदिवासी वर्ग और सुदूर गांव की महिला राष्ट्रपति बन सकती है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए तिग्गा ने कहा कि विपक्षी उम्मीदवार की 'हार' तय मानने के बाद ममता अब कह रही हैं कि अगर भाजपा उन्हें पहले बताई होती तो द्रौपदी मुर्मू का वह भी समर्थन करतीं। नाम जानने के बाद भी उन्होंने अपना मन क्यों नहीं बदला? हार को भांपते हुए वह अपना फैसला बदलने की कोशिश कर रही है।

उल्लेखनीय है कि द्रौपदी 18 जुलाई को होने वाले आगामी राष्ट्रपति चुनाव के प्रचार के लिए नौ जुलाई को राज्य विधानसभा का दौरा करेंगी। एनडीए की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू के पास चुनाव जीतने की 'अधिक' संभावना है। पिछले सप्ताह शुक्रवार को इस्कान की भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा का उद्घाटन करते हुए ममता ने कहा था कि भाजपा ने द्रौपदी के नाम की घोषणा करने से पहले संभावित उम्मीदवारों के नामों पर चर्चा नहीं की।

उन्होंने कहा कि मेरे मन में महिलाओं के लिए अपार सम्मान है और वह भी आदिवासी वर्ग से विशेष रूप से महाराष्ट्र में हाल की स्थिति बाद जीतने का एक बेहतर मौका है। देश के अगले राष्ट्रपति का फैसला आम सहमति से किया जा सकता था अगर भाजपा ने घोषणा से पहले नाम पर चर्चा की होती। मुझे खुशी होती अगर उम्मीदवार का फैसला सर्वसम्मति से होता।

राष्ट्रपति पद पर एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू के खिलाफ विपक्ष के लिए साझा उम्मीदवार के रूप में यशवंत सिन्हा का नाम प्रस्तावित करने वाली तृणमूल सुप्रीमो ममता बनर्जी ने शुक्रवार को बड़ा बयान दिया है। मुर्मू को लेकर उन्होंने कहा है कि उनकी जीत की संभावना अधिक है।

ममता ने यह भी कहा कि अगर भाजपा पहले बताती कि एक आदिवासी महिला को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाना है तो मैं विचार करती। उनके कहने का मतलब था कि अगर उन्हें पहले से पता होता कि एनडीए की ओर से आदिवासी महिला को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया जाएगा तो बहुत हद तक संभव है कि वह विपक्ष के उम्मीदवार के नाम का प्रस्ताव नहीं करतीं और ना ही समर्थन करतीं।

यह भी पढ़ें -

ममता ने बंगाल में चुनाव बाद हिंसा की घटना को बताया बेबुनियाद, कहा- यह सिर्फ भाजपा का नाटक

Edited By: Babita Kashyap