जलपाईगुड़ी, जागरण संवाददाता। मुख्यमंत्री ने उसे जिम्मेदारी दी है। पीके के टीम में उसका बेटा शामिल है। नौकरी संबंधित पैसा उठाने की जिम्मेदारी उसे दी गई है। उसने वनमंत्री से पांच हजार व नांटु पाल से तीन हजार रुपया लिया है। इसी प्रकार बोलने वाले व दीदी के नाम पर पैसा उगाही करने के वाले एक फर्जी व्यक्ति को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

फेसबुक के मैसेनजर के माध्यम से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नाम पर लोगों को प्रताडि़त किया जा रहा था। आरोपी व्यक्ति का नाम दिपेंदू दत्त (50) है। वह जलपाईगुड़ी के पवित्र पाड़ा का निवासी है। दिपेंदू पर उत्तर बंगाल के कई नेता व मंत्री से पैसा लेने का आरोप है। पकड़े जाने पर उसने कहा कि किषान कल्याणी को जलपाईगुड़ी का जिलाध्यक्ष व मृदुल गोस्वामी को अलीपुरद्वार का जिलाध्यक्ष उन्होंने ही बनवाया है। उक्त बातों को सुनकर पुलिस भी आश्चर्यचकित रह गई। 

जलपाईगुड़ी के कोतवाली थाना के आईसी विश्वाश्रय सरकार ने कहा कि आरोपित दिपेंदू दत्त ने उत्तर बंगाल के कई नेता-मंत्रियों से पैसा लिया है। इसकी शिकायत थाने में की गई थी। इसके बाद ही पुलिस ने अभियान चलाकर दिंपेदू को गिरफ्तार किया। उसके नाम पर ठगी मामले में पहले से ही कई शिकायतें है। वाटेंड में उसका नाम शामिल था। इस बारे में पूर्व वनमंत्री विनय कृष्ण बर्मन ने कहा कि इलाज के नाम उनसे पांच हजार रुपये लिया गया था। नांटु पाल ने भी कहा कि दीदी के नाम पर उनसे भी ठगी की गई है। अब वह पुलिस के गिरफ्त में है। 

पढ़ें :  पढ़ाई के लिए समय नहीं मिलने पर अर्जुन ने ट्रेन को बना लिया है 'स्टडी रूम'

 प. बंगाल से जुड़ी बाकी खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप