नई टिहरी, जेएनएन। आजाद हिंद फौज में शामिल रहे बौराड़ी नई टिहरी निवासी स्वतंत्रता संग्राम सेनानी औतार सिंह तोपवाल का लंबी बीमारी के बाद गुरुवार को भानियावाला देहरादून में अपने आवास पर निधन हो गया। वह 99 साल के थे। शुक्रवार को हरिद्वार में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। 

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के साथ आजाद हिंद फौज और टिहरी रियासत के खिलाफ लड़ाई के लिए बनाए गए प्रजामंडल में औतार सिंह तोपवाल शामिल थे। औतार सिंह तोपवाल को 22 जुलाई को हिमालयन अस्पताल जौलीग्रांट में भर्ती कराया गया था, जिसके बाद 31 जुलाई को उन्हें घर ले आया गया था। इसके बाद वह घर में ही थे। गुरुवार शाम साढ़े पांच बजे उन्होंने अपने भानियावाला विस्थापित क्षेत्र में अपने बेटे के घर पर आखिरी सांस ली। औतार सिंह तोपवाल अपने पीछे छह बेटे और नाती पोते छोड़ गए हैं। इनकी पत्नी मासांती देवी का पहले ही स्वर्गवास हो गया था।

यह भी पढ़ें: देश की पहली महिला डीजीपी कंचन चौधरी भट्टाचार्य का निधन

औतार सिंह तोपवाल के बेटे विजयपाल तोपवाल ने बताया कि पिताजी का स्वास्थ्य पिछले कुछ समय से खराब था। औतार सिंह तोपवाल आजाद हिंद फौज में शामिल रहे और उसके प्रमुख सूबेदार थे। जापान और वर्मा की लड़ाई में भी इन्होंने हिस्सा लिया था। आजादी की लड़ाई के दौरान वह कई बार जेल भी गए। औतार सिंह तोपवाल को प्रशासन की तरफ से उनके योगदान के लिए कई बार सम्मानित भी किया गया। 1974 में तत्कालीन राष्ट्रपति नीलम संजीव रेड्डी ने औतार सिंह तोपवाल को प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया था।

यह भी पढ़ें: नहीं रहे पूर्व विधायक रणजीत सिंह वर्मा, उत्तराखंड राज्य आंदोलन में रही मुख्य भूमिका

Posted By: Sunil Negi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप