जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : Ankita Murder Case : यमकेश्वर में अंकिता भंडारी की हत्या के विरोध में लोग एकजुट हुए हैं। राजनीतिक, व्यापारिक व छात्र संगठनों ने दुस्साहसिक घटना की कड़ी निंदा करते हुए मामले की फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई कराने एवं दोषियों को फांसी देने की मांग की है। शनिवार को हल्द्वानी में विभिन्न संगठनों ने आवाज बुलंद की।जिला व महानगर कांग्रेस ने बुद्ध पार्क में एकत्र होकर प्रदेश सरकार का पुतला फूंका। पुलिस प्रशासन व सरकार के विरूद्ध नारेबाजी की।

ये भी पढ़ें : Ankita Murder Case: अंकिता भंडारी के पिता बोले, मेरी बेटी के हत्यारों को मिले फांसी की सजा; देखें वीडियो 

कांग्रेस ने किया प्रदर्शन

कांग्रेस महानगर अध्यक्ष राहुल छिमवाल, विधायक प्रतिनिधि जीवन सिंह कार्की ने कहा कि भाजपा शासन में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का नारा धोखा है। पीडि़त परिवार को 50 लाख देने की मांग की। यहां प्रदेश महासचिव महेश शर्मा, जिलाध्यक्ष सतीश नैनवाल, प्रदेश सचिव प्रकाश पांडे, जगमोहन चिलवाल, नरेश अग्रवाल, सोहेल सिद्दीकी, गिरीश पांडे, रवि जोशी, शोभा बिष्ट, मधु सांगुड़ी, नीमा भट्ट, जया कर्नाटक, गोविंद बगड़वाल आदि शामिल रहे। कांग्रेस जिला प्रवक्ता हरेंद्र क्वीरा, ब्लाक अध्यक्ष हेमंत बगड़वाल के नेतत्व में गौलापार कुंवरपुर चौराहे में पुतला फूंका।

एबीवीपी ने निकाली आक्रोश रैली

अंकिता हत्याकांड के विरोध में एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने एमबीपीजी कालेज परिसर में आक्रोश रैली निकाली। अंकिता को श्रद्धांजलि दी गई और दोषियों को फांसी देने की मांग की। प्रांत संगठन मंत्री विक्रम सिंह, विभाग संयोजक कमलेश भट्ट, सूरज रमोला, रश्मि लमगडिय़ा, दीपक रावत, कौशल बिरखानी, अभिषेक गोस्वामी आदि शामिल रहे।

ये भी पढ़ें : Ankita Murder Case: स्‍पीकर ऋतु खंडूड़ी ने सीएम धामी को लिखा पत्र, राजस्व पुलिस व्यवस्था खत्‍म करने का किया अुनरोध

घटना से देवभूमि शर्मसार

प्रांतीय नगर उद्योग व्यापार मंडल ने अंकिता हत्याकांड को देवभूमि को शर्मसार करने वाला बताया। कहा कि मामला रसूखदार लोगों से जुड़ा होने से पुलिस ने मामले में कार्रवाई में देर लगाई। जनता के आक्रोश को देख आरोपितों को गिरफ्तार किया गया। महानगर अध्यक्ष राजीव अग्रवाल, प्रदेश संगठन प्रभारी वीरेंद्र गुप्ता, धर्म यादव, देवेश अग्रवाल, सुभाष मोंगा, राजेंद्र फस्र्वाण, पूरन लाल, प्रमोद अग्रवाल ने मृतका की आत्मशांति की प्रार्थना की।

आप ने फूंका प्रदेश सरकार का पुतला

आम आदमी पार्टी कार्यकर्ताओं ने जेल रोड चौराहे पर सरकार का पुतला फुंका। उन्होंने अंकिता हत्याकांड के आरोपितों पर कड़ी कार्रवाई की मांग की। कहा कि सरकार महिलाओं व बहनों की सुरक्षा करने में विफल हो गई है। इस मौके पर अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष अब्दुल कादिर, युवा मोर्चा जिलाध्यक्ष हर्ष सिरोही, दीप चंद पांडे, पंकज कुमार, वीरेंद्र कुमार, मनीष कुमार, धीरज जोशी आदि मौजूद रहे।

सपा ने भी जताया रोष

सपा के प्रदेश प्रभारी हाजी अब्दुल मतीन सिद्दीकी ने भी घटना पर गहरा रोष व्यक्त किया और कहा कि सत्ता से जुड़े लोगों को कानून का डर नहीं है। ऐसे अपराधियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाए।

नैनीताल में भी प्रदर्शन

अंकिता भंडारी की हत्याकांड को लेकर नैनीताल में भी प्रदर्शन हुए। महिला मंच की डाॅ. उमा भट्ट, बसंती पाठक, चंपा उपाध्याय समेत अन्य महिलाओं ने इस हत्याकांड की निंदा करते हुए कहा कि भाजपा राज में बेटियां व महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं।

ये भी पढ़ें : Ankita Murder Case: एम्‍स ऋषिकेश में हुआ पोस्टमार्टम, रिपोर्ट को लेकर भीड़ ने रोकी एंबुलेंस; देखें वीडियो

पिथौरागढ़ में भी दिखा आक्रोश

पिथौरागढ़ में भी कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन कर प्रदेश सरका पुतला फूंका। कार्यकर्ताओं ने इस मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक में करते हुए दोषियों को फांसी की सजा दिए जाने की मांग की। सिल्थाम तिराहे पर कांग्रेस जिलाध्यक्ष त्रिलोक महर की अगुवाई में प्रदर्शन करते हुए कार्यकर्ताओं ने कहा कि भाजपा सरकार का बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का नारा खोखला है। भाजपा शासित राज्यों में महिला अपराध तेजी से बढ़ रहे हैं। यहां वरिष्ठ नेता मनोज ओझा, महामंत्री कुंडल महर, शंकर खड़ायत, त्रिलोक सिंह बिष्ट, बबलू सौन, विपिन कापड़ी, सौरभ भंडारी, रजत विश्वकर्मा, विनय वल्दिया, नैन सिंह बोरा, नारायण राम कोहली आदि थे।

बागेश्वर में भी सड़क पर उतरे लोग

अंकिता भंडारी की हत्या के विरोध में विभिन्न संगठनों ने सरकार के विरुद्ध प्रदर्शन किया। कांग्रेस ने प्रदेश सरकार का पुतला फूंका। आम आदमी पार्टी, छात्र संगठन और सवाल संगठन विरोध में उतर गया है। कांग्रेसियों ने अंकिता के हत्यारों को फांसी से कम सजा नहीं देने की मांग की। शनिवार को कांग्रेस के जिलाध्यक्ष लोकमणि पाठक के नेतृत्व में कांग्रेसी एसबीआइ तिराहे पर एकत्र हुए और सांकेतिक मौन व्रत भी रखा। इस दौरान गीता रावल, विनोद पाठक, सुनील भंडारी, देवेंद्र परिहार, गिरीश पांडे, पंकज जोशी, भीम कुमार, कुंदन गोस्वामी, जगदीश पुरी, महेश पंत, सुनीता रजवार,गोविंद कठायत, भगवत डसीला आदि मौजूद थे। कांग्रेस के पूर्व दर्जा मंत्री राजेंद्र सिंह टंगड़िया ने अंकिता की हत्या पर गहरा दुख व्यक्त किया। उन्होंने एसबीआइ तिराहे पर आंखों में काली पट्टी बांधकर मौन व्रत किया। कहा कि देवभूमि को कलंकित करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी जा रही ह। भाजपा नेता के पुत्र समेत तीन अन्य आरोपित घटना में शामिल हैं। जिससे भाजपा का दोहरा चरित्र सामने आया है।

Edited By: Rajesh Verma

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट