रुद्रपुर, जेएनएन : एटीएम हैक कर 15 दिन के भीतर नैनीताल और ऊधमङ्क्षसह नगर के अलग-अलग एटीएम से एक करोड़ रुपये उड़ाने वाले गिरफ्तार कानपुर के हैकर्स को पुलिस रिमांड पर लेगी। साथ ही उनके दो अन्य साथियों की तलाश में पुलिस जुट गई है। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक रिमांड पर लेकर पूछताछ के बाद उनके कुमाऊं में सक्रिय कई और साथी पुलिस के हत्थे चढ़ सकते हैं। 

रविवार रात गश्त के दौरान पुलिस ने ब्लॉक रोड पर कार सवार पांच संदिग्धों को पकड़ा था। इसके बाद उनकी निशानदेही पर उनके तीन और साथियों को भी काशीपुर रोड से गिरफ्तार कर लिया था। पूछताछ में उन्होंने अपना नाम किशन कश्यप, रविकांत यादव, राहुल कनौजिया, जीत यादव उर्फ आनंद यादव, रवि कुमार, आशीष उर्फ अमन, रोहित, शिवम तिवारी बताया। सभी आरोपित थाना चकेरी, कानपुर, उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं। इन्होंने 15 दिन में नैनीताल और ऊधमङ्क्षसह नगर के एटीएम को हैक कर एक करोड़ रुपये से अधिक पार कर लिए थे। पुलिस ने सभी के खिलाफ केस दर्ज कर जेल भेज दिया था।

इधर, अब पुलिस गिरफ्तार हैकर्स को रिमांड पर लेने की तैयारी कर रही है। इसके लिए पुलिस एक-दो दिन में न्यायालय में आवेदन भी करेगी। कोतवाल कैलाश भट्ट ने बताया कि आठों हैकर्स को रिमांड पर लिया जा रहा है। उनसे गिरोह से जुड़े अन्य सदस्यों के बारे मेें जानकारी ली जाएगी, खासकर कुमाऊं में सक्रिय सदस्यों के संबंध में। इसके बाद उनकी भी गिरफ्तारी की जाएगी।

बैंक दर्ज करा सकते हैं केस

एटीएम को हैक कर बैंकों को आर्थिक नुकसान पहुंचाने वाले हैकर्स पर बैंक भी केस दर्ज करा सकते हैं। दरअसल, पुलिस को आरोपितों से 1.36 लाख रुपये मिले हैं, जो अलग अलग बैंकों के है। ऐसे में पुलिस अधिकारियों ने बैंक अधिकारियों से बैंक स्टेटमेंट चेक करने को कहा था। ताकि पता लगाया जा सके कि बरामद रुपये किस किस बैंक के हैं। कोतवाल कैलाश भट्ट ने बताया कि जल्द ही संबंधित बैंक मामले में मुकदमा दर्ज करा सकते हैं। 

यह भी पढ़ें : वाहन पर 'प्रेस' लिखकर हरियाणा से पहाड़ पहुंचा दी दारू हुई भरी कार, दो तस्‍कर गिरफ्तार

यह भी पढ़ें : समाज कल्याण छात्रवृत्ति घोटाले में आरोपित संयुक्त निदेशक नौटियाल की गिरफ्तारी तय

Posted By: Skand Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप