नैनीताल, [जेएनएन]: हाई कोर्ट ने हरिद्वार में करीब पांच साल पहले हुए ओनिडा फैक्ट्री अग्निकांड मामले की एसआइटी जांच के आदेश पारित किए हैं। राज्य सरकार इस मामले की जांच के लिए एसआइटी का गठन कर चुकी है जबकि सीबीसीआइडी इस मामले में फाइनल रिपोर्ट लगा चुकी है। कोर्ट के फैसले के बाद इस मामले में फैक्ट्री मालिक व मैनेजर के फिर से जांच के दायरे में आने की संभावना बढ़ गई है।

वर्ष 2012 में हरिद्वार में ओनिडा कंपनी में हुए भीषण अग्निकांड में 11 कर्मचारियों की जिंदा जलकर मौत हो गई थी। इस घटना के बाद मृतकों के परिजनों द्वारा रानीपुर कोतवाली में प्राथमिकी दर्ज कराई गई। इसमें से एक मृतक अभिषेक के पिता रवींद्र द्वारा हाई कोर्ट में याचिका दायर की गई। याचिका में पूरे प्रकरण की सीबीआइ या एसआइटी जांच की मांग की गई। 

याचिका में यह भी कहा कि आइपीएस केवल खुराना व कोतवाल राजीव डंडरियाल द्वारा प्राथमिकी से गलत तरीके से कंपनी के मालिक व मैनेजर का नाम हटा दिया गया। इसकी शिकायत मृतक के पिता द्वारा की गई और डीआइजी से दोबारा प्राथमिकी दर्ज करने का आग्रह किया गया। याचिकाकर्ता ने कोर्ट में प्रार्थना पत्र देकर पूरे मामले की सीबीआइ जांच की मांग भी की थी। यहां बता दें कि इस मामले में एक आइएएस अधिकारी की भूमिका की जांच भी की गई है। इस मामले की सुनवाई न्यायमूर्ति सुधांशु धूलिया की एकपीठ में हुई।

यह भी पढ़ें: हाई कोर्ट ने बर्खास्त प्राध्यापक को बहाल करने के दिए आदेश

यह भी पढ़ें: पर्वतीय मार्गों पर हो रही ओवरलोडिंग पर हार्इकोर्ट सख्त, पाबंदी

यह भी पढ़ें: पहाड़ी क्षेत्रों में ओवरलोडिंग मामले में हार्इकोर्ट ने सरकार से मांगा जवाब

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस