नैनीताल, [जेएनएन]: गुजरात के बड़ोदरा में प्राइवेट नौकरी के दौरान युवक के दोस्त की बारात राजस्थान गई तो वहां युवती के साथ आंखें चार हो गई। तभी युवती की शादी कहीं अन्यत्र तय हुई तो दोनों भाग गए और पहले चितई मंदिर फिर रानीखेत आर्य समाज मंदिर में शादी रचा ली। युवती के परिजनों ने युवक पर बहला फुसलाकर भगाने व दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज करा दिया। इधर युवक ने हाई कोर्ट में याचिका दायर कर पत्नी को पेश करने की गुजारिश की। 

अदालत से दबाव बढ़ा तो राजस्थान पुलिस युवती को लेकर नैनीताल पहुंची और उसे कोर्ट में पेश किया। कोर्ट में युवती ने शादी करना स्वीकारा, लेकिन पति के बजाय माता-पिता के साथ जाने का फैसला किया। इसके बाद पुलिस ने युवक को हिरासत में ले लिया और राजस्थान के लिए ले गई।

यह अजीबोगरीब प्रेम कहानी के मुख्य किरदार में है रानीखेत के इंदिरा बस्ती निवासी प्रदीप कुमार पुत्र गिरीश चंद्र की। प्रदीप के अनुसार उसने दो साल तक वडोदरा में नौकरी की। इसी साल नौ नवंबर को चितई में, फिर 14 नवंबर को उसने राजस्थान के थाना क्षेत्र दोवड़ा, जिला डूंगरपुर निवासी युवती के साथ आर्य समाज रानीखेत में शादी की। इसी बीच 15 नवंबर को राजस्थान पुलिस युवती को अपने साथ जबरन ले गई। बीवी को दिलाने के लिए हाई कोर्ट में याचिका दायर की।

गुरुवार को राजस्थान पुलिस के हेड कांस्टेबल राकेश कुमार व कांस्टेबल रोशन लाल युवती को लेकर नैनीताल पहुंचे और उसे हाई कोर्ट में पेश किया। प्रदीप के अधिवक्ता विनोद तिवारी के अनुसार युवती ने कोर्ट के समक्ष शादी होना स्वीकारा मगर माता-पिता के साथ जाने की इच्छा प्रकट की, जिसके बाद उसे परिजनों के हवाले कर दिया। तभी सूखाताल के समीप पुलिस ने प्रदीप को हिरासत में लेकर कोतवाली ले आई। कोतवाली में उसका भाई राहुल भी पहुंच गया। पुलिस ने आमद दर्ज कराने के बाद औपचारिकताएं पूरी की और उसे पूछताछ के लिए राजस्थान ले गई।

यह भी पढ़ें: युवती को भगाने के आरोप में जम्मू-कश्मीर का युवक गिरफ्तार

यह भी पढ़ें: इलाज के बहाने युवती से किया दुष्कर्म, आरोपी चिकित्सक गिरफ्तार

यह भी पढ़ें: नल में पानी भरने गई युवती से अभद्रता, कपड़े फाड़े

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस