नैनीताल, [जेएनएन]: प्रधानमंत्री कार्यालय(पीएमओ) ने नगरपालिका नैनीताल में अनियमितता की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए राज्य के मुख्य सचिव को मामला रेफर किया है। पीएमओ की पहल के बाद पूरा प्रशासनिक अमला हरकत में आ गया। शहरी विकास निदेशक ने डीएम से पूरे प्रकरण की जांच कर रिपोर्ट मांगी है। डीएम ने एडीएम वित्त बीएल फिरमाल को जांच अधिकारी नामित कर दिया है। 

दरअसल 17 जुलाई को उत्तराखंड प्रदेशीय सफाई मजदूर संघ के त्रिलोचन टांक, नरेश पारछे, राजकुमार पंवार, कमल कुमार, राजेश कुमार, अनिल कीर्ति, अमित सहदेव तथा विजय की ओर से पालिका में कूड़ा निस्तारण वाहन, एलइडी बल्ब खरीद तथा नियुक्तियों में अनियमितता का आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शिकायती पत्र भेजा था। पीएमओ ने शिकायत को राज्य के मुख्य सचिव को रेफर करते हुए कार्रवाई की अपेक्षा की है। 

पीएमओ के संज्ञान लेने के बाद शहरी विकास निदेशक ने शिकायती पत्र में उल्लेख किए गए बिंदुओं की जांच कर रिपोर्ट देने संबंधी पत्र जिलाधिकारी को भेजा। नैनीताल के जिलाधिकारी दीपेंद्र चौधरी ने पत्र मिलने की पुष्टि करते हुए कहा कि इस मामले में जांच एडीएम बीएल फिरमाल को सौंपी गई है। एडीएम फिरमाल के अनुसार तमाम बिंदुओं पर नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी को बुलाया गया है। मामले की जांच जल्द पूरी कर ली जाएगी। यदि खामी मिली तो संबंधित के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।

यह भी पढ़ें: गंगा का जलस्तर बढ़ने से नहीं शुरू हो पा रहा खनन

यह भी पढ़ें: हाई कोर्ट ने गंगा के किनारे से 5 किमी दायरे में खनन पर लगी रोक हटाई

यह भी पढ़ें: गंगा नदी में स्टोन क्रशर व खनन बंद न होने पर हाई कोर्ट गंभीर

Posted By: Sunil Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस