हरिद्वार, जेएनएन। गंगा में अस्थि विसर्जित करने के लिए आने वाले स्वजन अब हरिद्वार में 24 घंटे तक रुक सकते हैं। पहले उनको तुरंत वापस लौटना पड़ता था। अब वह किसी भी होटल व धर्मशाला में भी रुक सकते हैं। यह संशोधित आदेश अस्थि विसर्जन करने के लिए आ रहे लोगों की परेशानी को देखते हुए किए हैं, ताकि, दूर-दराज से आने वाले ऐसे लोगों को परेशान न होना पड़े।

जिलाधिकारी सी. रवि शंकर ने बताया कि गंगा में अस्थि विसर्जन करने वाले तीन लोगों को अनुमति दी गई है। जिसमें दो परिवार के सदस्य और वाहन के साथ आने वाला चालक। पंडा समाज और लोगों की ओर से अस्थि विसर्जन में आ रही परेशानी के बाबत दिए प्रार्थना पत्रों को ध्यान में रखते हुए पूर्व के आदेशों में डीएम ने अब दो संशोधन किए हैं। जिनमें पहले अस्थि लाने वाले स्वजनों को तुरंत वापस लौटना होता था, लेकिन इसमें कई दिक्कतें सामने आ रही थीं। जिससे उन्होंने यह समय बढ़ाकर 24 घंटे कर दिया है। इससे अस्थि लाने वाले हरिद्वार में अब 24 घंटे ठहर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: Chardham Yatra 2020: उत्‍तराखंड के लोग एक जुलाई से कर सकेंगे चारधाम यात्रा

वहीं, दूसरे पहले अस्थि लाने वालों को कुछ चिह्नित होटल और धर्मशालाओं में रुकने की अनुमति दी गई थी, जिसमें भी इनको परेशानी आ रही थी, जिससे अब स्वजन हरिद्वार के किसी भी होटल व धर्मशाला में रुक सकते हैं। लेकिन होटल, धर्मशालाओं प्रबंधकों को एक पंजिका में उनका पूरा विवरण जैसे, नाम मोबाइल नंबर, स्थान आदि दर्ज करना होगा। इसके अलावा अस्थि लाने के लिए अनुमति पत्र की छायाप्रति भी लेकर पंजिका में रखनी होगी, लेकिन इन्हें अस्थि विसर्जन और प्रवास स्थल के अलावा हरिद्वार में किसी भी स्थान पर जाने की अनुमति नहीं होगी। 

यह भी पढ़ें: उत्‍तराखंड में अब शाम आठ बजे तक खुलेंगी दुकानें, सुबह पांच बजे से मॉर्निंग वॉक की अनुमति

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021