संवाद सहयोगी, हरिद्वार :  Haridwar Kumbh Mela 2021 गढ़वाल क्षेत्र से हरिद्वार पहुंची चार देव डोलियां ने हरकी पैड़ी पर प्रतीकात्मक गंगा स्नान किया। यहां पहुंची मां धारी देवी, देव घंटाकर्ण, मां सुरकंडा देवी और मां दक्षिण काङ्क्षलका की डोलियों की विधि विधान से पूजा-अर्चना की गई। आमजन ने देव डोलियों का आशीर्वाद लिया। गंगा स्नान के बाद भक्तों संग डोलियों ने वापस अपने गंतव्य की तरफ प्रस्थान किया। 

 श्री देवभूमि लोक संस्कृति विरासतीय शोभा यात्रा समिति की अगुवाई में देव डोलियां हरिद्वार प्रेमनगर आश्रम से गंगा स्नान के लिए रवाना हुई। वाया मेला नियंत्रण भवन होते हरकी पैड़ी पहुंची देव डोलियों की अगुआई घुड़सवार टुकड़ी कर रही थी। ढोल-दमाऊ की धुनों के बीच देव डोलियों का यश देखते ही बनता था। कुंभ मेला पुलिस ने डोलियों पर फूल बरसाए। हरकी पैड़ी पहुंचने पर पहले देवभूमि लोक संस्कृति विरासतीय शोभा यात्रा समिति के अध्यक्ष मोहन ङ्क्षसह गांववासी, स्थानीय संयोजक महंत अनिल गिरि, सहसंयोजक मुकेश जोशी की मौजूदगी में विधि-विधान संग देव डोलियों की पूजा की गई। बदरीविशाल, सुरकंडा देवी, मां धारीदेवी, घडिय़ाल देवता के जयकारों से हरकी पैड़ी गुंजायमान हो उठी। फिर श्रद्धालुओं ने देव डोलियों को एक-एक कर गंगा स्नान कराया। 

इस अवसर पर श्रीगंगा सभा अध्यक्ष प्रदीप झा की अगुवाई में तीर्थ पुरोहितों ने  ब्रह्मकुंड पर देव डोलियों का पूजन कर आशीर्वाद लिया। गंगा स्नान के बाद देव डोलियां बैरागी कैंप क्षेत्र में बने पुलिस संचार बेस कैंप में पहुंची। 

200 देव डोलियों को आना था हरिद्वार 

गंगा स्नान के लिए गढ़वाल क्षेत्र से 200 के लगभग देव डोलियों को हरिद्वार आना था। लेकिन, कोरोना महामारी के कारण प्रतीकात्मक रूप में चार देव डोलियों को स्नान कराया गया। देव डोलियों के स्वागत और आशीर्वाद लेने के लिए आला अफसर से लेकर आमजन उमड़े। आइजी कुंभ मेला संजय गुंज्याल, मेलाधिकारी दीपक रावत, एसएसपी कुंभ मेला जन्मेजय प्रभाकर खंडूरी, महामंडलेश्वर वीरेंद्रानंद गिरी ने देव डोलियों का माल्यार्पण कर आशीर्वाद लिया। महामंडलेश्वर वीरेंद्रानंद गिरि ने कहा कि भारत की धार्मिक विरासत बहुत समृद्ध और विश्वव्यापी है। इन परंपराओं को और मजबूती देकर पूरे विश्व में देव डोलियों की पताका को फहराने की जरूरत है। आयोजन समिति के अध्यक्ष पूर्व कैबिनेट मंत्री मोहन ङ्क्षसह रावत गांववासी ने कहा कि देवडोलियों के स्नान की परंपरा सनातन धर्म का प्रतीक है। इसे लोक संस्कृति और धार्मिक आस्था को आगे बढ़ाने के लिए आयोजित किया जाता है। इस दौरान उप मेलाधिकारी दयानंद सरस्वती, सीओ प्रकाश देवली, योगेश ङ्क्षसह मेहरा, विद्यादत्त रतूड़ी, मनोज रसिक, वंशीधर पोखरियाल, रमेश पैन्यूली समेत अनेक पुलिस एवं मेला अधिष्ठान के अफसर मौजूद रहे। 

यह भी पढ़ें-बैरागी अखाड़े का एलान, कुंभ विसर्जन कर चुके अखाड़े शाही स्नान में न आएं

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021