रुड़की, जेएनएन। पुलवामा मामले को लेकर भाजपा पर सवालों की बौछार कर रही कांग्रेस के लिए अपने ही कार्यकर्ताओं ने असहज स्थिति पैदा कर दी है। गुरुवार को कार्यकर्ताओं ने पूर्व मुख्यमंत्री और पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव हरीश रावत के पुत्र वीरेंद्र रावत के सम्मान में एक कार्यक्रम का आयोजन किया। सोशल मीडिया पर इसका वीडयो वायरल हुआ है और इसमें कार्यकर्ता वीरेंद्र रावत पर नोट उड़ाते दिख रहे हैं। आक्रामक भाजपा ने कहा कि यह कांग्रेस का दोहरा चरित्र है। पुलवामा में 44 जवान शहीद हुए हैं। उत्तराखंड के चार जांबाजों ने अपना सर्वोच्च बलिदान दिया है। पूरा देश और प्रदेश शोक में है और कांग्रेसी उत्सव मना रहे हैं।

दरअसल, वीरेंद्र रावत प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य हैं। वीरेंद्र के सम्मान में यह कार्यक्रम रुड़की के निकट रामपुर गांव के रहने वाले उनके करीबी गुलसन्नवर ने किया था। स्थानीय राजनीति में सक्रिय गुसन्नवर ने बताया पहले यह कार्यक्रम 15 फरवरी को होना था, लेकिन पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद कार्यक्रम की तिथि बढ़ाकर 21 फरवरी कर दी गई। कार्यक्रम में स्थानीय कांग्रेस नेता डॉ. नैय्यर काजमी, मुकेश सैनी, जंग्गू राणा, सीताराम समेत कई लोग शामिल थे। सोशल मीडया पर वायरल वीडियो में नजर आ रहा है कि गीत-संगीत के कार्यक्रम के बीच वीरेंद्र रावत सीट से उठकर साजिंदों के पास जाते हैं और कुछ युवक उन पर नोट उड़ा रहे हैं। कुछ युवक थिरक रहे हैं।

आयोजक गुलसन्नवर से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि इसमें कुछ भी आपत्तिजनक नहीं है। बताया कि कार्यक्रम शुरू होने से पहले शहीदों को श्रद्धासुमन अर्पित किए गए। सवाल उठाया कि 'कार्यक्रम में कुछ उत्साही युवक वीरेंद्र जी का सदका कर गाने वालों को रुपये देते हैं तो इसमें गलत क्या है।

इस बारे में वीरेंद्र रावत से बात करने की कोशिश की गई, लेकिन तमाम प्रयास के बाद भी उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया। दूसरी ओर प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता श्रीगोपाल नारसन ने मामले से अनभिज्ञता जताते हुए कहा कि उन्होंने वीडियो नहीं देखा है। ऐसे में कोई प्रतिक्रिया देना मुमकिन नहीं है। 

प्रदेश भाजपा के मीडिया प्रमुख डॉ. देवेंद्र भसीनप्रधानमंत्री की यात्रा पर सवाल उठा रही कांग्रेस का दोहरा चरित्र सामने आ गया है। यह इसका प्रमाण है। जहां पूरा देश शोक में है, वहीं कांग्रेस उत्सव मना रहे हैं। यहां तक कि पैसे भी लुटाए जा रहे हैं।  इससे साफ है कि सेना और शहीदों के प्रति कांग्रेस में सम्मान नहीं है।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह का इस मामले को लेकर कहना है कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है, उन्होंने कोई वीडियो नहीं देखा। ऐसे में कोई प्रतिक्रिया देना संभव नहीं है।

यह भी पढ़ें: सतपाल महाराज के बयान पर महबूबा मुफ्ती का पलटवार, पढ़िए पूरी खबर

यह भी पढ़ें: हरीश रावत और इंदिरा हृदयेश पहुंचे शहीद के घर, फोटो खींचने पर भड़के परिजन

Posted By: Sunil Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस