जागरण संवाददाता, हरिद्वार।  मानदेय बढ़ोत्तरी संबंधी शासनादेश जारी करने की मांग को लेकर राजकीय महिला अस्पताल में आंदोलित आशा कार्यकर्त्‍ताओं ने अस्पताल की एक वार्ड आया पर मारपीट का आरोप लगाते हंगामा किया। मामला पुलिस तक पहुंचा। पीड़ित आशा की ओर से इस मामले में शहर कोतवाली में तहरीर दी गयी है। इधर वार्ड आया ने भी आशा कार्यकर्त्‍ता पर मारपीट का आरोप लगाते तहरीर दी है। बहरहाल पुलिस के हस्तक्षेप पर जैसे-तैसे मामला शांत हुआ।

मानदेय बढ़ोत्तरी संबंधी शासनादेश जारी न होने से आशा कार्यकर्त्‍ताओं में रोष है। वह पिछले दस दिनों से राजकीय महिला अस्पताल में धरना दे रही है। शुक्रवार को धरने के दौरान आशा कार्यकर्त्‍ताओं शीला चौहान की तबियत बिगड़ गयी। पर्चा बनाकर वह डाक्टर के कक्ष के बाहर बैठी वार्ड आया से उन्हें जल्दी दिखाने की बात कही। आशा शीला चौहान का आरोप है कि इस पर वार्ड आया पूनम भड़क गयी और उसके साथ अभद्रता और मारपीट शुरू कर दी। इसकी जानकारी मिलते ही बाहर धरने पर बैठी बड़ी संख्या में आशा कार्यकर्त्‍ता मौके पर पहुंच गयी और हंगामा शुरू कर दिया। हंगामे की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों पक्षों को समझा बुझाकर शांत किया। बाद में पीड़ित आशा शीला चौहान की ओर से शहर कोतवाली पुलिस को कार्रवाई की तहरीर दी गयी।

इधर, वार्ड आया पूनम ने भी मारपीट का आरोप लगाते हुए पुलिस को तहरीर दी है। आशा राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य कार्यकत्री एकता यूनियन की अध्यक्ष राजेश्वरी चौहान ने कहा कि सरकार उनकी मांगों को लेकर गंभीर नहीं है। कहा कि मांगें नहीं मानी तो अस्पताल में तालाबंदी की जाएगी। इस दौरान सविता सौदाई, सुरेंद्र शर्मा, संगीता, हेमलता आदि बड़ी संख्या में आशा कार्यकर्त्‍ता मौजूद रही।

मांगों को लेकर सिंचाई कर्मियों ने किया जोरदार प्रदर्शन

उत्तर प्रदेश सिंचाई विभाग के मिनिस्टीरियल कर्मचारियों ने मांगों को लेकर जोरदार प्रदर्शन किया। मिनिस्टीरियल एसोसिएशन के अध्यक्ष टूटल सिंह और सचिव अनुज शर्मा के नेतृत्व में कर्मचारी शुक्रवार सुबह मध्य गंगनहर गुण नियंत्रण खंड-दो कार्यालय पर एकत्र हुए। वक्ताओं ने कहा कि समस्याओं के समाधान के लिए अधिकारियों से लगातार पत्राचार किया जा रहा है, लेकिन समस्याओं का समाधान नहीं हो रहा है। समस्याओं को लेकर संगठन की और चरणबद्ध आंदोलन चलाया जा रहा है। अध्यक्ष टूटल सिंह व सचिव अनुज शर्मा ने कहा कि यदि कर्मचारियों की आठ सूत्री समस्याओं का जल्द समाधान नहीं हुआ तो आंदोलन तेज किया जाएगा। प्रदर्शनकारियों में अरुण कुमार, ललित जोशी, विरेंद्र सिंह, मनीष गुप्ता, सुनील कुमार, कुमार अभिजय, राजेश समेत बड़ी संख्या में कर्मचारी शामिल रहे।

यह भी पढ़ें:- देहरादून में विधानसभा कूच के दौरान युवा कांग्रेस और पुलिस में झड़प, 50 कार्यकर्त्‍ता गिरफ्तार

 

Edited By: Sunil Negi