राज्य ब्यूरो, देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि नई शिक्षा नीति नए भारत का निर्माण करेगी। साथ में युवा पीढ़ी को आधुनिक ज्ञान-विज्ञान के साथ भारतीय संस्कृति से भी जोड़ेगी। मुख्यमंत्री धामी ने गुरुवार को कैंप कार्यालय में राष्ट्रीय शिक्षा नीति के एक वर्ष पूरा होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संबोधन सुना। इस वर्चुअल कार्यक्रम में उच्च शिक्षा मंत्री डा धन सिंह रावत और शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय भी मौजूद रहे।

कार्यक्रम के बाद दोनों मंत्रियों और विभागीय अधिकारियों के साथ बैठक में मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी का संबोधन हमारे लिए ऊर्जा और पथ प्रदर्शन का कार्य करता है। उनके मार्गदर्शन में राष्ट्रीय शिक्षा नीति क्रांतिकारी और युगांतकारी घटना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत की संकल्पना साकार करने को नई शिक्षा नीति मजबूत आधार स्थापित करेगी। धामी ने कहा कि प्रधानमंत्री के प्रयासों के साथ उत्तराखंड तत्परता से खड़ा है। विद्या प्रवेश, निष्ठा-दो और सफल, एकेडमिक क्रेडिट बैंक और बहुस्तरीय प्रवेश और निकास के अवसर नई शिक्षा नीति के अहम अंग हैं।

क्षेत्रीय भाषाओं में इंजीनियरिंग कोर्स और कार्यक्रमों की शुरुआत की जा रही है। नेशनल डिजिटल एजुकेशन आर्किटेक्चर और राष्ट्रीय शिक्षा तकनीकी फोरम सार्थक पहल के तौर पर हैं। उच्च शिक्षा के अंतरराष्ट्रीयकरण के संदर्भ में दिशा-निर्देश सहित आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस का प्रयोग भारतीय शिक्षा व्यवस्था में सकारात्मक बदलाव की शुरुआत है। उच्च शिक्षा मंत्री डा धन सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखंड भी प्रधानमंत्री मोदी के मार्गदर्शन और उनकी संकल्पनाआं को साकार करने की दिशा में तेजी से कदम बढ़ा रहा है। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री आनंद बद्र्धन, उच्च शिक्षा सचिव दीपेंद्र चौधरी, रूसा सलाहकार प्रो केडी पुरोहित, प्रो एमएसएम रावत, रूसा नोडल एएस उनियाल भी मौजूद थे।

यह भी पढ़ें- आज जारी होगा CBSE बोर्ड की 12वीं कक्षा का रिजल्ट, रोल नंबर नहीं है पता तो परेशान न हों; ये है तरीका

Edited By: Raksha Panthri