राज्य ब्यूरो, देहरादून। Uttarakhand Board examination सरकार ने उत्तराखंड बोर्ड की रद की गईं इंटर और हाईस्कूल के परीक्षाफल निर्माण के संबंध में शिक्षा महानिदेशक विनय शंकर पांडेय की अध्यक्षता में पांच सदस्यीय समिति गठित की है। समिति सीबीएसई, आइसीएसई और अन्य राज्यों में परीक्षाफल को लेकर अपनाए जा रहे फार्मूले का अध्ययन कर अपनी संस्तुति के साथ 10 दिन में शासन को रिपोर्ट सौंपेगी।

सरकार की ओर से गठित इस समिति के सदस्यों में माध्यमिक शिक्षा निदेशक आरके कुंवर, अकादमिक शोध एवं प्रशिक्षण निदेशक सीमा जौनसारी, उत्तराखंड बोर्ड की सचिव नीता तिवारी और गढ़वाल व कुमाऊं मंडल के अपर शिक्षा निदेशक माध्यमिक शामिल हैं। कोविड-19 महामारी के चलते प्रदेश में उत्तराखंड बोर्ड की इंटर और हाईस्कूल की परीक्षाएं रद की जा चुकी हैं।

अब इन दोनों परीक्षाओं में पंजीकृत छात्रों का परीक्षाफल घोषित करने की चुनौती सरकार और विभाग के सामने है। शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय पहले ही कह चुके हैं परीक्षाफल का निर्माण सीबीएसई की तर्ज पर किया जाएगा। उत्तराखंड बोर्ड से पहले सीबीएसई दोनों परीक्षाओं को रद कर चुकी है। अन्य राज्य भी परीक्षाएं रद करने की घोषणा कर चुके हैं।

अब प्रदेश सरकार ने तय किया है कि सीबीएसई के साथ ही आइसीएसई और अन्य राज्यों में परीक्षाफल निर्माण के लिए अपनाई जा रही व्यवस्था और मापदंडों का भी परीक्षण किया जाएगा। मंशा ये है कि परीक्षाफल तैयार करते वक्त तमाम पहलुओं का ध्यान रखा जाए, ताकि छात्रों के साथ न्याय हो सके। प्रदेश में 10वीं व 12वीं के करीब 2.72 लाख परीक्षार्थी पंजीकृत हैं।

यह भी पढ़ें- उत्तराखंड में बढाई जाएगी केजीबीवी की संख्या, डुंडा और गूलरभोज में खोले जाएंगे दो नए विद्यालय

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप