जागरण संवाददाता, देहरादून। पावर बैंक एप से की गई ठगी के मामले में उत्तराखंड एसटीएफ के पास दिन ब दिन शिकायतें बढ़ती जा रही हैं। गुरुवार को 19 नई शिकायतें एसटीएफ को प्राप्त हुईं। जिनमें अभी बड़ी रकम ठगे जाने की शिकायतों को प्राथमिकता के आधार पर जांच में शामिल किया जा रहा है। इसके लिए कई टीमें अन्य राज्यों के लिए भी रवाना की गई हैं।

फर्जी कंपनियों में निवेश के नाम पर पावर बैंक एप से करोड़ों की ठगी के मामले में शिकायतों की संख्या बढ़ती जा रही है। चीन से एप का संचालन कर भारत में दर्जनों लोग को चूना लगाने का यह मामला देशभर में चर्चा का विषय बना हुआ है। उत्तराखंड पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स की कार्रवाई के बाद दिल्ली और बेंगलूरू में भी इस मामले में गिरफ्तारियां हुईं और जांच अब भी जारी है। अब तक इस साइबर फ्राड में पांच सौ करोड़ से अधिक की ठगी की पुष्टि हो चुकी है। दून में भी निवेश कर ठगी के शिकार बढ़ते जा रहे हैं। गुरुवार को 19 नई शिकायतों के अलावा पूर्व में 25 से अधिक शिकायतें प्राप्त हो चुकी थीं।

एसटीएफ ने खाते फ्रीज कराए

एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह ने बताया कि पहले बड़ी रकम से जुड़ी शिकायतों की जांच की जा रही है। संबंधित खातों में हुए ट्रांजेक्शन के आधार पर खाते फ्रीज कराने की प्रक्रिया जारी है। इसके अलावा एसटीएफ की टीमें अन्य राज्यों में भी रवाना की गई हैं। जो वहां पड़ताल में सामने आए बैंक खाताधारक की तलाश कर रहे हैं।

बेंगलुरू से बी-वारंट पर आरोपित लाने की तैयारी

पावर बैंक एप साइबर फ्राड में बेंगलुरू में भी छह कंपनियों के डायरेक्टर गिरफ्तार किए गए हैं। जिनमें तीन उत्तराखंड में ठगी से संबंधित हैं। ऐसे में उत्तराखंड एसटीएफ उक्त आरोपितों को बी-वारंट पर दून लाने की तैयारी कर रही है। कंपनी के डायरेक्टरों से पूछताछ के बाद जांच का दायरा और बढ़ाया जाएगा।

यह भी पढ़ें-आनलाइन अर्निंग एप पर पैसे दोगुने होने के झांसे में जीवनभर की कमाई गंवा रहे लोग

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप