जागरण संवाददाता, देहरादून : Shubh Muhurat 2022 : साल के अंतिम महीने में मांगलिक कार्य के आठ मुहूर्त रहेंगे। ऐसे में लोग तैयारियों में जुटे हैं और ब्राह्मणों को फोन कर जानकारी भी ले रहे हैं।

चार दिसंबर से हर ओर शहनाई की धुन सुनाई देगी। 13 दिसंबर से 13 जनवरी तक खरमास के चलते अबूझ मुहूर्त को छोड़कर मांगलिक कार्यों पर विराम रहेगा।

विवाह, मुंडन, गृहप्रवेश आदि मांगलिक कार्य शुरू हो चुके हैं

बीते महीने नवंबर से देवउठनी (देवोत्थान) एकादशी के बाद से विवाह, मुंडन, गृहप्रवेश आदि मांगलिक कार्य शुरू हो चुके हैं। इस महीने की बात करें तो चार, पांच, छह, सात, आठ, नौ, 13 व 14 दिसंबर मांगलिक कार्य के लिए शुभ है।

यह भी पढ़ें : Shubh Vivah Muhurat 2023: साल 2023 में विवाह के 64 शुभ मुहूर्त, जानिए सभी तिथियां

उत्तराखंड विद्वत सभा के प्रवक्ता आचार्य बिजेंद्र प्रसाद ममगाईं के अनुसार, बीते जुलाई के बाद चातुर्मास की वजह से विवाह व मांगलिक कार्य रुक गए थे। हिंदू धार्मिक पंचांग के अनुसार देवोत्थान एकादशी के दिन से ही शुभ कार्य शुरू किए जाते हैं व विवाह का लग्न भी शुरू हो जाता है।

14 दिसंबर से पहले मांगलिक कार्यों के लिए आठ दिन

इस महीने की बात करें तो 14 दिसंबर से पहले मांगलिक कार्यों के लिए आठ दिन रहेंगे। इसके बाद खरमास शुरू हो जाएगा, जो अगले साल 13 जनवरी तक चलेगा। 14 जनवरी को मकर संक्रांति पर खरमास का अंत होने से मांगलिक कार्य एक बार फिर शुरू हो जाएंगे।

ये पांच स्वयं में सिद्ध मुहूर्त

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, प्रत्येक वर्ष में कुल पांच स्वयं में सिद्ध मुहूर्त होते हैं। इन पांच दिनों में मुहूर्त न होते हुए भी शुभ कार्य जैसे विवाह आदि किए जा सकते हैं। क्योंकि ये अपने आप में सिद्ध मुहूर्त हैं। फुलेरा दूज, देवउठनी एकादशी, बसंत पंचमी, विजया दशमी और अक्षय तृतीया सिद्ध मुहूर्त हैं।

वर्ष 2023 में कितने कब-कब और कितने शुभ मुहूर्त हैं?

हिन्दी पंचांग के अनुसार साल 2023 में विवाह के कुल 59 शुभ मुहूर्त हैं। इनमें जनवरी में 09, फरवरी में 13, मई में 14, जून में 11, नवंबर में 05 और दिसंबर में 07 विवाह मुहूर्त हैं। इसमें विवाह करना शुभ एवं कल्याणकारी रहेगा।

Edited By: Nirmala Bohra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट