जागरण संवाददाता, देहरादून। Uttarakhand School Reopen News कोरोना संक्रमण के साये में एक बार फिर स्कूल खुल गए हैं। सोमवार को प्रदेश में 9वीं से 12वीं कक्षा तक के लिए इस शैक्षणिक सत्र में स्कूल खुले। पहले दिन सभी सरकारी स्कूल तो खुल गए, लेकिन राजधानी समेत अन्य शहरों में निजी स्कूलों ने अभी बच्चों को नहीं बुलाया। कुछ निजी स्कूल इस हफ्ते तो कुछ अगले हफ्ते तक बच्चों को स्कूल बुलाने की तैयारी में हैं। वहीं, आवासीय स्कूलों को खुलने में डेढ़ से दो हफ्ते तक का समय लग सकता है।

कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए गेट पर छात्र-छात्राओं को मास्क के साथ थर्मल स्क्रीनिंग और सैनिटाइजेशन के बाद छात्रों को स्कूल में प्रवेश दिया गया। वहीं, स्कूलों में छुट्टी के बाद सैनिटाइजेशन भी हुआ। उधर, प्रदेश के अशासकीय स्कूल सैनिटाइजेशन के लिए बजट की मांग कर रहे हैं।

पिछले साल कोरोना संक्रमण के चलते मार्च महीने में स्कूल बंद हो गए थे। हालांकि, बोर्ड कक्षाओं की पढ़ाई को ध्यान में रखते हुए दो नवंबर से 10वीं और 12वीं के लिए दिवसीय और आवासीय स्कूल खोल दिए गए थे। कोरोना की स्थिति काबू में आने के बाद प्रदेश सरकार ने छठी से 11वीं तक के छात्रों के लिए भी आठ फरवरी को स्कूल खोले थे। हालांकि, कोरोना संक्रमण के डर से न तो ज्यादा अभिभावकों ने अपने बच्चों को स्कूल भेजा, न ही सभी निजी स्कूलों ने बच्चों को बुलाने पर जोर दिया। अप्रैल महीने में कोरोना की दूसरी लहर आने पर दोबारा स्कूल बंद करने पड़े। साथ ही बोर्ड की परीक्षाएं तक रद करनी पड़ीं। अब कैबिनेट के फैसले पर सोमवार से 9वीं से 12वीं के लिए स्कूल खोल दिए गए हैं। वहीं, छठी से आठवीं तक के लिए 16 अगस्त से स्कूल खोलने की तैयारी है।

 

कोरोना गाइडलाइन का हो रहा पालन

स्कूल खोलने के बाद डालनवाला स्थित दून इंटरनेशनल स्कूल में पहुंचे छात्र-छात्राओं की मुख्य द्वार पर थर्मल स्क्रीनिंग की गई। इसके साथ ही सैनिटाइजर से हाथ साफ कराए गए, जिसके बाद ही छात्र-छात्राओं को क्लास में आने की अनुमति मिली। उन्हें शारीरिक दूरी पर बैठाया गया है।

स्कूलों में शारीरिक दूरी का रखा गया ख्याल

झबरेड़ा के अटल उत्कृष्ट आदर्श सरस्वती राजकीय बालिका इंटर कॉलेज और चौधरी भरत सिंह डीएवी इंटर कॉलेज में गेट शिक्षकों ने बच्चों से शारीरिक दूरी का पालन कराया। साथ ही सभी छात्र-छात्राओं का मास्क और सहमति पत्र चेक किए। हाथों को सैनिटाइज करने के बाद ही छात्रों को कक्षा में प्रवेश कराया जा रहा है।

सरकारी और निजी दोनों स्कूलों में आफलाइन के साथ आनलाइन पढ़ाई भी जारी रहेगी। छात्र संख्या ज्यादा पहुंचने पर स्कूल दो शिफ्ट में संचालित करने या एक दिन छोड़कर 50 फीसद छात्रों को स्कूल बुलवाने की व्यवस्था बनाई जाएगी। दिवसीय स्कूलों में प्रवेश के समय सभी छात्रों, शिक्षक और कर्मचारियों की थर्मल स्क्रीनिंग होगी। तापमान सामान्य से अधिक मिलने पर अभिभावकों को इसकी सूचना दी जाएगी। साथ ही चिकित्सक के परामर्श पर ही छात्र को दोबारा स्कूल आने की अनुमति दी जाएगी।

यह भी पढ़ें- उत्‍तराखंड में रैंकर्स भर्ती का परिणाम लटका, सीधी भर्ती पर भी संकट

Edited By: Raksha Panthri