जागरण संवाददाता, रुड़की। अपने बयानों को लेकर अक्सर चर्चाओं में रहने वाले गाजियाबाद के डासना मंदिर (Dasna Mandir) के महंत महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद महाराज (yeti Narasimhanand Maharaj) ने कहा कि घर के अंदर बैठकर जिहादियों से मुकाबला नहीं हो सकता। बताया कि एक आतंकी संगठन की ओर से प्रकाशित की जाने वाली पत्रिका में एक मंदिर के ऊपर आतंकी संगठन का झंडा लगाकर लेख प्रकाशित किया गया है। इस बात को लेकर कहीं पर कोई चर्चा नहीं की जा रही है। उन्होंने कहा कि सनातन धर्म (Sanatan Dharm) पर बड़ा खतरा मंडरा रहा है। इसलिए संगठित होकर जिहादियों का मुकाबला करना जरुरी है। घर के अंदर बैठकर जिहादियों (Jihadis) से मुकाबला नहीं हो सकता है।

शनिवार को रुड़की में भाजपा नेता नितिन शर्मा के कार्यालय पर पहुंचे डासना मंदिर के महंत महामंडेलश्वर यति नरसिंहानंद महाराज ने पत्रकार वार्ता की। कहा कि आज एक समुदाय विशेष के लोग सड़क पर उतरकर प्रदर्शन कर रहे हैं। उनकी हत्या के लिए जिहादी तैयार किए जा रहे हैं।

डासना मंदिर के अंदर कई बार उन पर हमले हो चुके हैं। लेकिन, वह मरने से नहीं डरते हैं। वह सनातन धर्म को बचाने के लिए अपने जीवन का बलिदान भी दे देंगे। उन्होंने कहा कि वसीम रिजवी की किताब में कुछ भी गलत नहीं है। उन्होंने कहा कि आज पुरी दुनिया में जहां पर भी पुरातात्विक खोदाई होती है वहां पर शिवलिंग निकलते हैं। इसलिए पुरी दुनिया में शिव की ही पूजा होती थी।

यह भी पढ़ें- प्रभु श्रीराम को अपना आदर्श मानते हैं विलेन का दमदार किरदार निभाने वाले रजा मुराद, जानिए क्‍या बोले

उन्होंने कहा कि हिंदू समाज को अपनी अस्मिता बचाने के लिए जागना होगा। अन्यथा वह दिन दूर नहीं है जब उनको हिंदुस्तान को भी छोड़ना पड़ेगा। इस मौके पर आनंद बाबा, भाजपा नेता नितिन शर्मा, उमेश प्रधान आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें- जगतगुरु शंकराचार्य का बड़ा बयान, बोले उत्‍तर प्रदेश में तीन पाकिस्तान बनाने की तैयारी

Edited By: Raksha Panthri