संवाद सहयोगी, रामनगर : बालीवुड की फिल्मों में विलेन का दमदार रोल अदा करने वाले रजा मुराद प्रभु श्रीराम को अपना आदर्श मानते हैं। यहां हनुमान धाम के समीप एक निजी कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे रजा मुराद ने प्रशंसकों के साथ अपने जीवन के अनुभव साझा किए।

जैसे ही आसपास के लोगों को रजा मुराद के हनुमान धाम परिसर पहुंचने की जानकारी हुई तो उनसे मिलने की चाह लेकर कई प्रशंसक वहां जा पहुंचे। प्रशंसकों को संबोधित करते हुए रजा मुराद ने कहा उनके जीवन में राम की बहुत कृपा रही उन्होंने बताया उनका जन्म स्थान उत्तर प्रदेश के रामपुर में है। इस शहर के नाम में भी राम का नाम जुड़ा है।

उन्होंने प्रशंसकों को बताया कि उन्हें फिल्मों में पहला बे्रक प्रसिद्ध निर्देशक व लेखक बाबू राम इशारा ने दिया। उनके नाम में भी राम शब्द आता है। बोले-फिल्म इंडस्ट्री में 14 साल परिश्रम करने पर राजकपूर की फिल्म 'राम तेरी गंगा मैली' के बाद से मुझे काम मिलना शुरू हुआ। इस फिल्म में काम करने के बाद उनके जीवन की कायापलट हुई। उन्होंने कहा बाबू राम इशारा ने मुझे पहला जीवनदान दिया था। दूसरा जीवनदान राजकपूर ने 'राम तेरी गंगा मैली' फिल्म से दिया।

उसके बाद सुभाष घई की सुपर डुपर फिल्म 'रामलखन' आई। जिसमें सरजॉन का रोल अदा किया। उसके बाद संजय लीला भंसाली के साथ पहली बार काम किया। वह फिल्म भी सुपर-डुपर हिट हुई। उसका नाम 'रामलीलाÓ था। इन सब फिल्मों में 'रामÓ का नाम शामिल है। उन्होंने कहा पिछले दस साल से रामलीला में तरह-तरह के चरित्र निभाता हूं। हमेशा मुझ पर 'रामजी' की बहुत कृपा रही है।

Edited By: Skand Shukla