देहरादून, जेएनएन। पुलिस ने चोर गिरोह का भंडाफोड़ करते हुए दो शातिर चोरों को धर दबोचा है, जबकि उनके चार साथी फरार होने में कामयाब रहे। पकड़े गए आरोपितों के पास से एक कार चोरी के 118 नए फोन और तीन फर्जी नंबर प्लेट बरामद की गई हैं।  

दरअसल, ऋषिकेश के गुमानीवाला निवासी सुमित सेमल्टी ने पुलिस को तहरीर देकर बताया कि रात को उसकी दुकान का ताला तोड़कर लाखों की चोरी को अंजाम दिया गया। आरोपित करीब 132 महंगे मोबाइल फोन, एक लैपटॉप, 40 हजार रुपए नगद और डीवीआर चोरी कर ले गए। इसपर पुलिस ने आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। 

घटना के जल्द खुलासे के लिए छह टीमें गठित की गई। जिसके बाद पुलिस ने घटनास्थल से जाने वाले वाहनों को ट्रेस करने के लिए ऋषिकेश से होते हुए हरिद्वार, कलियर, रुड़की, मुज्जफरनगर, मेरठ और गाजियाबाद तक सड़क किनारे, प्रतिष्ठानों और पुलिस विभाग द्वारा लगाए गए 300 से भी ज्यादा सीसी टीवी कैमरों की फुटेज खंगाली। 

इस दौरान फुटेज में पुलिस एक होंडा सिटी कार में पांच संदिग्ध नजर आए। जिसके बाद  पुलिस ने होटलों के रजिस्टर और यात्रियों द्वारा दी गई आइडी चेक करनी शुरू कर दी। बाद में पुलिस को जानकारी मिली के जिस गिरोह ने घटना को अंजाम दिया है वो डासना गाजियाबाद के निवासी हैं। इस पर पुलिस टीम ने डासना गाजियाबाद में मुखबिर तंत्र को सक्रिय कर दिया। जिसके तहत पुलिस ने गिरोह की निगरानी शुरू कर दी।

शुक्रवार को ये गिरोह मुज्जफरनगर बाइपास के रास्ते मोबाइल बेचने के लिए निकला। पुलिस टीम ने उन्हें रोकने की कोशिश की, जिसपर कार चालक ने कार को तेजी से रोका और दरवाजा खोल चालक समेत चार वहां से फरार हो गए। जबकि दो मो. फिरोज पुत्र बाबूद्दीन और तहसीन पुत्र सलीम निवासी डासना पुलिस के हत्थे चढ़ गए। वहीं कार की तलाशी लेने पर प्लास्टिक के कट्टों से 118 मोबाइल फोन और तीन नंबर प्लेट बरामद हुई।

यह भी पढ़ें: ठेकेदार बना जहरखुरानी का शिकार, लूटी हजारों की नकदी और मोबाइल

यह भी पढ़ें: किराएदार निकला जिला पंचायत सदस्य के घर में लूट का मास्टरमाइंड, गिरफ्तार

यह भी पढ़ें: भाजपा नेता के घर लाखों की लूट, मां-बेटी को बंधक बना फरार हुए बदमाश

Posted By: Raksha Panthari