जागरण संवाददाता, देहरादून। कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के मामले अब तेज रफ्तार से बढ़ रहे हैं। इसी के साथ ऑक्सीजन की खपत भी बढ़ने लगी है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग ने भी एहतियाती कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। उत्तराखंड से अन्य राज्यों को ऑक्सीजन की आपूर्ति फिलहाल नहीं होगी। इस पर रोक लगा दी गई है।

जब से कोरोना वायरस (Covid 19) की दूसरी लहर आई है, तब से ऑक्सीजन की खपत बढ़ी है, पर इसकी किल्लत नहीं है। सामान्य स्थितियों की तुलना में ऑक्सीजन की खपत दोगुना बताई जा रही है। पर अभी हालात इस तरह नहीं हैं कि मांग के अनुरूप ऑक्सीजन की आपूर्ति न मिल पा रही हो। विभिन्न फर्मों से जुड़े व्यक्तियों के अनुसार, अगर इसी तरह से मरीजों की संख्या बढ़ती रही तो आने वाले दिनों में निश्चित तौर पर ऑक्सीजन की आपूर्ति प्रभावित हो सकती है।

दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल (Doon Medical College) की बात करें तो यहां सामान्य दिनों में औसतन 1200 किलोग्राम ऑक्सीजन की जरूरत रोजाना पड़ती थी, पर आजकल औसतन ढाई से तीन हजार किलोग्राम ऑक्सीजन की खपत है। प्राचार्य डॉ. आशुतोष सयना ने बताया कि अभी अस्पताल में ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा उपलब्धता है। साथ ही आगे के लिए फर्म को अलर्ट किया गया है। वहीं, औषधि नियंत्रक ताजबर सिंह जग्गी का कहना है कि ऑक्सीजन की कमी न हो इसका पूरा ध्यान रखा जा रहा है। अन्य राज्यों को सप्लाई रोकी गई है।

यह भी पढ़ें- कुंभ के बीच धर्मनगरी हरिद्वार बनी कोरोना का हॉटस्पॉट, 14 दिन में 3885 मामले आए सामने

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें