देहरादून, [जेएनएन]: उत्तराखंड में एनएसयूआइ ने नवनिर्वाचित पांच विश्वविद्यालय प्रतिनिधियों को निष्काषित कर दिया है। इन्हें संगठन के विरोध में मतदान करने और विरोधी संगठनों के सहयोग करने के मामले में निष्काषित किया गया है। 

भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन (एनएसयूआइ) में गुटबाजी एवं आपसी कलह डीएवी छात्र संघ चुनाव के कुछ घंटे बाद खुलकर सामने आ गई। संगठन को संवारने के बजाए एक-एक कर चुने हुए नेताओं को बाहर का रास्ता दिखाया जा रहा है। 

बीते रविवार को डीएवी कॉलेज से रेकार्ड 2184 मतों के अंतर से जीत दर्ज कर विवि प्रतिनिधि चुनी गई अंजलि चमोली को संगठन विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप में एनएसयूआइ के प्रदेश अध्यक्ष मोहन भंडारी ने छह साल के लिए संगठन से निष्कासित कर दिया है। सोमवार को ही अंजलि चमोली गढ़वाल विवि महासंघ चुनाव में महासचिव के पद पर निर्वाचित हुई। डीएवी कॉलेज में एनएसयूआइ के दयनीय प्रदर्शन के पीछे का सच चुनाव के बाद सामने आया। जिसे कांग्रेस के बड़े नेताओं ने नजरअंदाज कर रखा था। 

एनएसयूआइ के प्रदेश अध्यक्ष मोहन भंडारी ने सोमवार को जारी बयान में बताया कि अंजलि चमोली के अलावा संगठन के विरोध में मतदान करने और विरोधी संगठनों को सहयोग करने के मामले में चार अन्य विश्वविद्यालय प्रतिनिधि चुने पदाधिकारियों को भी संगठन की प्राथमिक सदस्यता रद्द करते हुए छह साल के लिए निष्कासित कर दिया गया है। इनमें विश्वविद्यालय प्रतिनिधि नरेंद्रनगर दिनेश चौहान, राजकीय महाविद्यालय पौखाल की विवि प्रतिनिधि शबनम राणा, राजकीय डिग्री कॉलेज सतपुली और अगस्त्यमुनि के विवि प्रतिनिधियों को निष्कासित किया गया है। कहा कि प्रदेशभर के छात्र संघ चुनावों के आयोजन के बाद एनएसयूआइ ने चुनाव में संगठन विरोधी गतिविधियों में संलिप्त  कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इसी क्रम में संगठन ने जहां एक ओर प्रदेश भर के कॉलेजों में विवि प्रतिनिधि पद पर जीत कर आए प्रत्याशियों को संगठन से छह साल के लिए निष्कासित किया। 

छह की हाईकमान से शिकायत 

प्रदेश अध्यक्ष एनएसयूआइ ने छह पदाधिकारियों को चुनाव में गैर संवेधानिक कार्य करने को लेकर हाईकमान से शिकात की है। जिनमें एनएसयूआइ के प्रदेश महासचिव विकास नेगी, जिला अध्यक्ष रुद्रप्रयाग मनीष चौहान, जिला अध्यक्ष विपिन रावत, यूथ कांग्रेस जिलाध्यक्ष पौड़ी अमित राज, यूथ कांग्रेस नेता विनीत भट्ट व रितेश क्षेत्री शामिल हैं। 

विपिन फर्सवाण को माना अपना 

हेमवती नंदन बहुगुणा केंद्रीय गढ़वाल विश्वविद्यालय के छात्र महासंघ के चुनाव में एनएसयूआइ के उपाध्यक्ष पद पर विपिन फर्सवाण के रूप में विजय प्राप्त करने वाले नेता को एनएसयूआइ प्रदेश अध्यक्ष ने अपने पाले का नेता माना है। उनकी जीत पर बधाई दी है। 

यह भी पढ़ें: छात्रसंघ चुनाव: डीएवी पीजी कॉलेज में अध्यक्ष पद पर रिकॉर्ड 12वीं बार अभाविप की जीत

यह भी पढ़ें: एसजीआरआर पीजी कॉलेज में अभाविप के बागी ने मारा मैदान

Posted By: Raksha Panthari