Move to Jagran APP

एनआरआइ ने जमीन दिलाने के नाम पर 30 लाख ठगे, हांगकांग में रहता है मुख्य आरोपित

हांगकांग में रह रहे दून के एनआरआइ अंशुल जैरथ और दून निवासी उसके भाई मयूर जैरथ की धोखाधड़ी के शिकार व्यक्तियों की फेहरिस्त बढ़ती जा रही है। नेहरू कालोनी थाना में मुकदमा दर्ज किया गया है। इससे पहले भी दोनों पर जालसाजी के दो मुकदमे दर्ज किए जा चुके हैैं।

By Sumit KumarEdited By: Published: Fri, 15 Oct 2021 08:10 AM (IST)Updated: Fri, 15 Oct 2021 08:10 AM (IST)
इस मामले में नेहरू कालोनी थाना में मुकदमा दर्ज किया गया है।

जागरण संवाददाता, देहरादून: हांगकांग में रह रहे दून के एनआरआइ अंशुल जैरथ और दून निवासी उसके भाई मयूर जैरथ की धोखाधड़ी के शिकार व्यक्तियों की फेहरिस्त बढ़ती जा रही है। अब अंशुल और मयूर पर सिंचाई विभाग से सेवानिवृत्त कर्मचारी ने जमीन दिलाने के नाम पर 30 लाख रुपये की ठगी करने का आरोप लगाया है। इस मामले में नेहरू कालोनी थाना में मुकदमा दर्ज किया गया है।

इससे पहले भी दोनों पर जालसाजी के दो मुकदमे दर्ज किए जा चुके हैैं। हालांकि, तीन मुकदमे दर्ज होने के बाद भी पुलिस किसी आरोपित को गिरफ्तार नहीं कर पाई है। पुलिस के अनुसार, शिकायतकर्ता राजेश चौहान आमवाला नालापानी में रहते हैैं। उन्होंने शिकायत में बताया कि वर्ष 2019 में उन्हें दून में निजी इस्तेमाल के लिए जमीन की जरूरत थी। हांगकांग में रह रहा अंशुल जैरथ उनका परिचित है। ऐसे में उन्होंने जमीन के लिए अंशुल से संपर्क किया। अंशुल ने बताया कि नवादा में उसकी जमीन है, जिसे वह बेचना चाहता है। जमीन देखने के लिए अंशुल ने अपने भाई मयूर जैरथ निवासी खुड़बुड़ा का मोबाइल नंबर देकर उससे मुलाकात करने को कहा। राजेश को जमीन पसंद आ गई। उसका सौदा 90 लाख रुपये में तय हुआ।

राजस्व अभिलेखों में जमीन अंशुल और उसकी पत्नी शमा के नाम पर थी। शमा भी हांगकांग में रहती है। ऐसे में अंशुल के भाई ने 14 मार्च 2019 को जमीन का अनुबंध तैयार कराया और अग्रिम धनराशि के तौर पर 30 लाख रुपये ले लिए। 31 अगस्त 2019 को दोनों पक्षों के बीच तय हुआ कि 31 दिसंबर तक जमीन की रजिस्ट्री कर दी जाएगी। दिसंबर से पहले ही देश में कोरोना ने दस्तक दे दी। तब से अंशुल कोरोना का बहाना बनाकर रजिस्ट्री में टालमटोल करता आ रहा है।

इस बीच आठ सितंबर 2021 को राजेश जमीन देखने गए तो पता चला कि आरोपितों ने उसे किसी और को बेच दिया है। उन्होंने अंशुल से संपर्क किया तो वह बदसलूकी करने लगा। मयूर से बात की तो उसने रुपये लौटाने से इन्कार करने के साथ ही धमकाया। नेहरू कालोनी थाना के इंस्पेक्टर सतबीर बिष्ट ने बताया कि अंशुल और मयूर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया।

यह भी पढ़ें- Dehradun Crime News: पुलिस ने लंदन में रह रहे आठ साल से फरार वांछित को दबोचा

बिल्डर सहित दो और को भी ठगा

इससे पहले अंशुल और मयूर मियांवाला निवासी बिल्डर मोहित बुटोला से आवासीय परियोजना के निर्माण के नाम पर 87 लाख रुपये ठग चुके हैैं। इस मामले में इसी वर्ष मार्च में रायपुर थाना में मुकदमा दर्ज किया गया था। इसके बाद जुलाई में आरोपितों ने हर्रावाला निवासी राकेश सुंद्रियाल से जमीन दिलाने के नाम पर 65 लाख रुपये हड़प लिए थे। इस प्रकरण में भी रायपुर थाना में मुकदमा दर्ज है।

एसएसपी, जन्मेजय खंडूड़ी का कहना है कि विदेश में बैठा कोई व्यक्ति यदि देहरादून में जमीन बेच रहा है तो यह गंभीर मामला है। अंशुल और मयूर का रिकार्ड निकलवाया जाएगा। उनके खिलाफ जो मुकदमे दर्ज हुए हैं, उनमें देखा जाएगा कि अब तक क्या कार्रवाई हुई। जरूरत पड़ी तो अंशुल का लुक आउट नोटिस जारी किया जाएगा।

यह भी पढ़ें- देहरादून: समाज कल्याण सहायक निदेशक एनके शर्मा पर मुकदमे का आदेश, जानिए वजह


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.