मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

देहरादून, जेएनएन। मुख्य सड़कों पर प्रतिबंध के बावजूद धड़ल्ले से संचालित हो रहे ई-रिक्शा संचालन केवल नियम और कायदे ही नहीं तोड़ रहे, बल्कि यात्रियों की जान से खिलवाड़ भी कर रहे। हालात ये हैं कि नाबालिग भी ई-रिक्शा का संचालन कर रहे और पुलिस-प्रशासन की आंखें बंद हैं। ताजा मामला सहस्रधारा रोड बाइपास का है, जहां परिवहन विभाग की आर से नौ साल के बच्चे को ई-रिक्शा चलाते हुए पकड़ा गया। रिक्शा में तीन सवारी बैठी थी और नाबालिग उन्हें राजपुर की तरफ ले जा रहा था। परिवहन विभाग ने ई-रिक्शा सीज कर दिया और आरोपित के चालान को नए मोटर वाहन अधिनियम के तहत जुवेनाइल कोर्ट भेज दिया।

परिवहन विभाग की टीम ने नए मोटर वाहन अधिनियम के लागू होने के बाद से भले ही प्रदूषण जांच प्रमाण पत्र या बीमे पर अभी राहत दी हुई है, मगर सरेआम ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों पर शिकंजे की शुरुआत कर दी है। इसी के तहत शुक्रवार को मसूरी हाईवे पर परिवहन विभाग की टीम ने वाहन चेकिंग अभियान चलाया। यहां आइटी पार्क की तरफ से राजपुर आते हुए एक ई-रिक्शा पकड़ा गया। एआरटीओ प्रशासन अरविंद पांडे व एआरटीओ मुख्यालय रश्मि पंत के नेतृत्व में चले अभियान में टीम ने ई-रिक्शा को सीज कर दिया। एआरटीओ ने बताया कि ई-रिक्शा चला रहा नौ साल का बच्चा चौथी कक्षा का छात्र निकला। वह दोपहर तक स्कूल में पढ़ता है और फिर उसके बाद उसके पिता द्वारा उसे ई-रिक्शा चलाने भेजा जा रहा था। चेकिंग के दौरान टीम ने पांच वाहन सीज किए और साठ वाहनों का चालान किया गया।

जुवेनाइल का पहला मामला

एआरटीओ के अनुसार नाबालिग के वाहन चलाते पकड़े जाने पर जुवेनाइल कोर्ट भेजने का यह उत्तराखंड का संभवत: पहला मामला है। नए एक्ट में प्रावधान है कि यदि नाबालिग वाहन चलाता हुआ पकड़ा जाता है तो वाहन स्वामी पर 25 हजार रुपये का जुर्माना लगेगा। इसके साथ ही नाबालिग के अभिभावक को तीन साल तक की जेल का प्रावधान भी है।

 यह भी पढ़ें: नए एमवी एक्ट का खौफ, 11 दिन में बिके 20 हजार हेलमेट Dehradun News

पूजा कराते ही नया वाहन सीज

नए वाहन की पूजा-पाठ के बाद बिना हेमलेट पहने मसूरी रोड पर जाना एक जोड़े को भारी पड़ गया। दरअसल, चकराता रोड निवासी एक युवक ने शुक्रवार को शोरूम से नई स्कूटी खरीदी और फिर युवती मित्र के संग डाट काली मंदिर में स्कूटी पूजन के लिए ले गया। वापसी में वह मसूरी रोड पर मैगी प्वाइंट की तरफ आ रहे थे मगर दोनों ने हेलमेट नहीं पहना हुआ था। चेकिंग कर रही परिवहन टीम ने स्कूटी सवार को रोक लिया। स्कूटी में बिक्री से संबंधित दस्तावेज भी नहीं थे। लिहाजा, स्कूटी को सीज कर दिया गया।

यह भी पढ़ें: देहरादून में बिना अधिकार चालान का जुर्माना वसूल रही पुलिस, पढ़िए पूरी खबर

Posted By: Sunil Negi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप