देहरादून, जेएनएन। ग्राम पंचायतों के संपूर्ण विकास के लिए गांवों में मिशन अंत्योदय सर्वे शुरू होने जा रहा है। सर्वे को सटीक बनाने के लिए ग्राम पंचायतों के विकास से जुड़े 16 विभागों के अधिकारियों को प्रशिक्षण दिया गया। इस प्रशिक्षण में अधिकारियों को सर्वे का आंकड़ा जुटाने से लेकर मोबाइल एप पर अपलोड करने तक की जानकारी दी गई। 

विकास भवन सभागार में लोक योजना अभियान के अंतर्गत मिशन अंत्योदय सर्वे एवं जीपीडीपी ग्राम पंचायत डेवलपमेंट प्लान निर्माण का एक दिवसीय जिला स्तरीय प्रशिक्षण शिविर हुआ। प्रशिक्षण में जिला विकास अधिकारी प्रदीप पांडे ने बताया कि सर्वे सिर्फ इन गांवों में होगा जहां पंचायतों का गठन होगा। 

दो दिसंबर से मार्च तक किए जाने वाले इस सर्वे में शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़क, स्वच्छता समेत 141 बिंदुओं पर डाटा जुटाया जाएगा। उन्होंने बताया कि प्रत्येक ग्राम पंचायत में दो सदस्यीय टीम दो दिन में सर्वे पूरा करेगी। फिर इस डाटा के आधार पर ग्राम पंचायत विकास योजना का प्लान बनाया जाएगा। इस सर्वे में एसडीएम नोडल अधिकारी होगा, जबकि बीडीओ, एबीडीओ, अन्य विभागों के खंड स्तरीय अधिकारी समन्वयक होंगे। 

उन्होंने कड़े लहजे में कहा कि इसमें पुराना डाटा अपलोड नहीं किया जाएगा। सर्वे को सटीक बनाने के लिए इमारत आदि के फोटो अपलोड करने होंगे। मुख्य विकास अधिकारी जीएस रावत ने कहा कि इस सर्वे का मकसद किसी भी ग्राम पंचायत का सुनियोजित विकास करना है इस सर्वे से पता चलेगा कि शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़क, पानी, स्वच्छता में कहां कमी है और कैसे इस कमी को दूर किया जा सकता है इसलिए इस सर्वे में कोई कोताही नहीं बरती जानी चाहिए। 

यह भी पढ़ें: 40 नए वार्डों के आठ हजार व्यवसायिक भवनों से लिया जाएगा भवन कर Dehradun News

उन्होंने कहा कि प्रत्येक अधिकारी समय से सर्वे जानकारियों को मोबाइल एप में अपलोड करे। इस दौरान डॉ. एके डिमरी, अरुण भंडारी, रुप सिंह, डॉ. अलका पांडे, अरविंद कुमार, अभिलाषा भट्ट, प्रशांत बिष्ट, जीत सिंह, एमपी भाटी, भूप सिंह, एम जफर खान, विनय मोहन रतूड़ी आदि मौजूद थे।

यह भी पढ़ें: पीएमजीएसवाई के तहत सड़क बनाने में प्रदेश की रफ्तार सुस्त, पढ़िए पूरी खबर

Posted By: Sunil Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस