जागरण संवाददाता, देहरादून: श्री गुरु राम राय विश्वविद्यालय के कुलपति डा. यूएस रावत ने सही आचरण के लिए छात्रों को अच्छी पुस्तकें पढ़ने और प्रतियोगी युग में जीतने के लिए ज्ञान बढ़ाने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि अंग्रेजी के साथ ही छात्रों को स्थानीय भाषा का भी ज्ञान होना जरूरी है। वह विवि के दीक्षारंभ कार्यक्रम में छात्रों को संबोधित कर रहे थे।

श्री गुरु राम राय इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल एंड हेल्थ साइंसेज के सभागार में आयोजित तीन दिवसीय कार्यक्रम गुरुवार को शुरू हुआ। कुलाधिपति महंत देवेंद्र दास महाराज ने छात्रों को शुभकामना संदेश प्रेषित किया। कार्यक्रम की शुरुआत सरस्वती वंदना के साथ हुई। कुलपति ने कहा कि विवि का माहौल छात्रों के सर्वांगीण विकास के लिए पूर्णतया अनुकूल है। नई शिक्षा नीति की खूबियों पर प्रकाश डालते उन्होंने कहा कि अच्छी शिक्षा से ही आप अच्छे नागरिक बनेंगे। जीवन और शिक्षा दोनों में अनुशासन की सबसे ज्यादा जरूरत है।  कुलसचिव डा. दीपक साहनी ने छात्रों को कौशल विकास के लिए भी प्रेरित किया। शैक्षिक समन्वयक डा. मालविका कांडपाल ने नए छात्रों को शुभकामनाएं दी। समन्वयक डा. आरपी सिंह ने कहा कि सफलता का कोई शार्टकट नहीं, बल्कि परिश्रम ही एकमात्र रास्ता है।

यह भी पढ़ें- यूपीईएस के तीन पूर्व छात्रों ने बाजार में उतारी सेहतमंद ब्रेड

इस दौरान डा. प्रिया पांडे व डा. अनुजा रोहिला के निर्देशन में गढ़वाली और कुमाऊंनी लोकनृत्य, लोकगीत प्रस्तुत किए गए। स्कूल आफ मैनेजमेंट एंड कामर्स स्टडीज के प्रोफेसर दीपक साहनी,स्कूल आफ कंप्यूटर एप्लीकेशन एंड इनफार्मेशन टेक्नोलाजी की डीन प्रो. पारुल गोयल और स्कूल आफ फार्मास्यूटिकल साइंस की डीन प्रो.अलका चौधरी ने छात्रों को अपने-अपने विभाग की जानकारी दी। धन्यवाद प्रस्ताव डा. कुमुद सकलानी और डा. विपुल जैन ने दिया। मंच संचालन डा. दिव्या नेगी और ईशा शर्मा ने किया। इस अवसर पर डीन रिसर्च प्रो. अरुण कुमार, डा. मनोज गहलोत, डा. मनोज तिवारी, डा. सुमन विज आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें-Uttarakhand Coronavirus: कोरोना के 14 नए मामले, आठ जिलों में सक्रिय मामले दस से कम

Edited By: Sumit Kumar