जागरण संवाददाता, देहरादून। करीब एक दशक से अधिक समय पहले से दून में रिंग रोड की बातें की जा रही हैं। ताकि जिन व्यक्तियों को शहर में प्रवेश नहीं करना है, वह बाहर से ही अपने गंतव्य तक जा सकें। हालांकि, अब तक रिंग सिर्फ फाइलों में आकार लेती रही। पहली दफा ऐसा हुआ है, जब लग रहा है कि रिंग का सपना साकार हो पाएगा। रिंग का पहला हिस्सा आशारोड़ी से झाझरा के बीच बनाया जाएगा और इसका गजट नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया गया है। इसके तहत नई सड़क बनाने के लिए संबंधित छह गांवों में जमीन अधिग्रहण किया जाएगा।

रिंग रोड बनाने की कार्यदायी संस्था भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) है। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रलय के गजट नोटिफिकेशन के मुताबिक सड़क फोरलेन होगी और इसकी लंबाई करीब 12 किमी होगी। यह पूरी सड़क नई बनेगी और इसकी जद में छह गांवों में स्थित 44.76 हेक्टेयर निजी व सरकारी भूमि आएगी। सड़क की लागत करीब 350 करोड़ रुपये आंकी गई है। हालांकि, डीपीआर (डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट) बनाने का काम अभी जारी है। करीब एक माह के भीतर जमीन अधिग्रहण की तैयारी पूरी कर ली जाएगी और जब काम शुरू किया जाएगा। डेढ़ साल के भीतर सड़क तैयार करने का लक्ष्य रखा गया है।

सड़क निर्माण से यह मिलेगा लाभ

जो लोग दिल्ली की तरफ से सेलाकुई इंडस्टियल एरिया, पांवटा साहिब या दून की तरफ बल्लूपुर के पास तक आएंगे, उन्हें अनावश्यक रूप से शहर में प्रवेश नहीं करना पड़ेगा। पांवटा साहिब से दून होकर दिल्ली की तरफ जाने वाले वाहन भी दून में प्रवेश नहीं करेंगे। इससे शहर में अतिरिक्त वाहन दबाव नहीं पड़ेगा। भविष्य में नंदा की चौकी से मसूरी के लिए बाईपास रोड का निर्माण प्रस्तावित है। लिहाजा, रिंग रोड का यह भाग बेहद कारगर साबित होगा।

आशारोड़ी में आरटीओ चेकपोस्ट के पास से शुरू होगी सड़क

प्रस्तावित सड़क आशारोड़ी में आरटीओ चेकपोस्ट के पास से शुरू होगी और वन समेत ग्रामीण आबादी क्षेत्र से होकर झाझरा में देहरादून-पांवटा साहिब राजमार्ग पर मिलेगी। राजमार्ग में जरूरत के मुताबिक पुल व फ्लाईओवर के निर्माण भी किए जाएंगे। ताकि जंक्शन वाले हिस्सों में दुर्घटनाओं को रोका जा सके। इस राजमार्ग का निर्माण एनएचएआइ का वसंत विहार स्थित परियोजना निदेशक कार्यालय कर रहा है, जबकि परियोजना निदेशक के रूप में पंकज मौर्य परियोजना को धरातल पर उतारने के लिए कोरोनाकाल में भी सक्रिय होकर काम कर रहे हैं।

डीएम ने किया स्मार्ट रोड के कार्यो का निरीक्षण

स्मार्ट सिटी कंपनी के सीईओ व जिलाधिकारी डॉ. आशीष श्रीवास्तव ने स्मार्ट रोड के कायरें का निरीक्षण किया। उन्होंने राजपुर रोड पर दिलाराम चौक से एमजे टावर तक सभी कार्य 15 जून के भीतर पूरे करने के निर्देश दिए। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी (डीएम) डॉ. आशीष श्रीवास्तव ने कहा कि राजपुर रोड पर चौड़ीकरण, डक्ट बिछाने समेत ब्लैक टॉप व टाइल लगाने के काम गुणवत्ता के साथ पूरे किए जाएं। इसके अलावा उन्होंने ऊर्जा निगम के भवन को प्राचीन धरोहर के रूप में विकसित करने के भी निर्देश दिए। राजपुर रोड पर सड़क काफी चौड़ी है। लिहाजा, यातायात वाले मुख्य भाग के इतर वाले हिस्सों में सौंदर्यीकरण करने व बेंच लगाने के भी निर्देश जिलाधिकारी ने दिए। उधर, ईसी रोड पर डक्ट डालने के बाद सड़क को दुरुस्त करने के काम में गति लाने को कहा गया। साथ ही गेल को निर्देश दिए गए कि गैस की लाइन बिछाने के काम समय पर पूरे कर दिए जाएं।

फोर लेन के लिए इन गांवों में होगा भूमि अधिग्रहण

शहर में स्मार्ट सिटी के तहत चल रहे कार्यो का निरीक्षण करते स्मार्ट सिटी कंपनी के सीईओ डा. आशीष श्रीवास्तव व अन्य अधिकारी ’ साभार स्मार्ट सिटी। 

यह भी पढ़ें-Karnprayag Rail Project: कोरोना की चुनौती के बीच भी जारी परियोजना का काम, तैयार हुई 7.28 किलोमीटर सुरंग

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Sunil Negi