जागरण संवाददाता, विकासनगर। सेलाकुई में बिना अनुमति कोविड टेस्ट करता एक चिकित्सक पकड़ा गया। पुलिस ने आरोपित के पास से रैपिड एंटीजन टेस्ट करने वाली किट और अन्य सामान बरामद किए। मामले में चिकित्सक के विरुद्ध महामारी अधिनियम में मुकदमा दर्ज किया गया।

रविवार को थानाध्यक्ष सेलाकुई ऋतुराज सिंह को सूचना मिली कि सेलाकुई स्थित एक होटल के पास सरस्वती क्लीनिक संचालक चिकित्सक डॉ. ललित कुमार अवैध तरीके से नागरिकों की कोरोना की रैपिड एंटीजन टेस्ट कर रहा है। पुलिस ने इसकी जानकारी सरकारी अस्पताल सहसपुर की प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉ. विनीता स्याना को दी और चिकित्सकों के साथ एक टीम गठित कर क्लीनिक पर पहुंचकर जांच की गई। 

इस दौरान क्लीनिक संचालक डॉ. ललित कुमार पुत्र सुभाषचन्द निवासी मंझोल जबरदस्तपुर थाना झबरेड़ा हरिद्वार हाल निवासी सरस्वती क्लीनिक सेलाकुई को बिना अनुमति कोरोना टेस्ट करते पाया गया। पुलिस ने मौके से 24 एंटीजन किट, 25 नमूना सुरक्षित करने वाली किट, तीन सैंपल रनिंग बफर, इस्तेमाल किए हुए छह रैपर कोरोना एंटीजन किट बरामद की। थानाध्यक्ष ऋतुराज सिंह के अनुसार पुलिस ने क्लीनिक संचालक के खिलाफ महामारी अधिनियम के साथ ही कई अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। थानाध्यक्ष के अनुसार थाना क्षेत्र में कालाबाजारी करने और बिना अनुमति के आवश्यक वस्तुओं की जमाखोरी व ओवररेटिंग के विरुद्ध लगातार कार्रवाई गतिमान है।

केशव अस्पताल में कोरोना मरीजों के जीवन से खिलवाड़

कुछ निजी अस्पताल कोरोना मरीजों के जीवन के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम की संयुक्त छापेमारी के दौरान केशव अस्पताल अवैध रूप से कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज करते हुए पाया गया। जबकि अस्पताल प्रबंधन के पास संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए शासन से अनुमति नहीं थी। टीम ने कार्रवाई के लिए रिपोर्ट सीएमओ को भेज दी है।

पटेलनगर कोतवाली प्रभारी प्रदीप राणा ने बताया कि जीएमएस रोड स्थित केशव अस्पताल में कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज करने की सूचना मिली थी। सीओ सदर अनुज कुमार की देखरेख में एक टीम गठित की गई। जिसमें स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी डॉ. सुधीर पांडेय को भी शामिल किया गया। टीम ने रविवार को छापेमारी के दौरान मौके पर देखा कि अस्पताल में 10 कोरोना संक्रमितों का इलाज चल रहा था। टीम ने जब अस्पताल स्टाफ से अनुमति पत्र दिखाने को कहा तो वह कोई दस्तावेज नहीं दिखा पाए।

कोतवाली प्रभारी ने बताया कि अस्पताल में लंबे समय से कोरोना संक्रमितों का इलाज किया जा रहा है। अब तक अस्पताल में कितने मरीजों को भर्ती किया गया व उपचार के दौरान के दौरान कितने संक्रमितों की मृत्यु हुई, इसकी भी जांच की जा रही है।

यह भी पढ़ें-फ्लोमीटर की कालाबाजारी करते दवा विक्रेता गिरफ्तार

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Sunil Negi