देहरादून, जेएनएन। 1955 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के मामले में दर्ज मुकदमे में सीबीआइ दिल्ली की टीम ने देहरादून में आइटीबीपी के रिटायर्ड आइजी के आवास समेत दिल्ली और गुरुग्राम में आठ स्थानों पर छापेमारी की। सीबीआइ प्रवक्ता के अनुसार, इस दौरान टीम ने कई दस्तावेज कब्जे में लिए हैं, जिनका परीक्षण किया जा रहा है। 

जानकारी के अनुसार, सीबीआइ दिल्ली ने मामले में बीती दस फरवरी को एजुकांप सॉल्यूशंस लिमिटेड व उसकी सहयोगी फर्म एजु स्मार्ट सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड के अधिकारियों पर धोखाधड़ी का केस दर्ज किया। एसबीआइ के डीजीएम मुकेश कुमार धींगरा की ओर से दर्ज कराए मुकदमे में आरोप लगाया गया है कि एजुकांप सॉल्यूशंस लिमिटेड के एमडी शांतनु प्रकाश, जगदीश प्रकाश निवासी गुरुग्राम हरियाणा, एजु स्मार्ट के डायरेक्टर विजय प्रकाश चौधरी निवासी पश्चिमी दिल्ली व विनोद कुमार डंडोना निवासी सिद्धार्थ पैराडाइज अपार्टमेंट, प्रेमनगर, देहरादून व अन्य ने एसबीआइ, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया व आइडीबीआइ बैंक से 1955 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की है। 

आरोप था कि एजुकांप सॉल्यूसंस लिमिटेड स्कूलों को एजुकेशनल साफ्टवेयर की आपूर्ति करती थी। बाद में उसने सहयोगी फर्म एजु स्मार्ट सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड के जरिये बैंकों से लोन लिया, लेकिन जिस काम के लिए लोन लिया और उस काम में नहीं लगाया गया। जांच में यह भी सामने आया कि लोन के सापेक्ष किश्तें भी जमा नहीं की जा रही थीं। सीबीआइ दिल्ली के प्रवक्ता ने बताया कि छापेमारी में जो दस्तावेज मिले हैं, उनका परीक्षण करने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें: विदेश भेजने का झांसा देकर ठगे पौने 11 लाख रुपये Dehradun news

दून में पांच घंटे चला सर्च

दिल्ली सीबीआइ की टीम गत सुबह ही देहरादून पहुंच गई। यहां देहरादून सेक्टर के अधिकारियों से संपर्क करने के बाद टीम सीधे सिद्धार्थ पैराडाइज अपार्टमेंट पहुंची। यहां सुबह साढ़े सात बजे से लेकर दोपहर साढ़े बारह बजे तक टीम घर की तलाशी लेती रही। इस दौरान घर में मौजूद सदस्यों से भी पूछताछ की गई।

यह भी पढ़ें: जमीन बेचने के नाम पर जीजा-साले ने एक व्यक्ति से हड़पे 20 लाख रुपये

Posted By: Bhanu

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस