देहरादून, जेएनएन। लॉकडाउन में फंसे लोगों को उनके राज्य या जिलों में भेजने के लिए महाराणा प्रताप स्पो‌र्ट्स कॉलेज में बनाए गए ट्रांजिट कैंप से 900 के करीब चादर चोरी हो गई हैं। अब प्रशासन के अधिकारी चोरी हुई चादरों के बदले नई चादरों की व्यवस्था कर रहे हैं।

महाराणा प्रताप स्पो‌र्ट्स कॉलेज से ही लोगों को उनके गंतव्य तक रवाना किया जा रहा है। इसके लिए इस जगह को कोविड-19 का ट्रांजिट कैंप बनाया गया है। कई दफा बसों के विलंब से पहुंचने या दूसरे राज्यों से अनुमति मिलने में विलंब होने पर लोगों को यहां ठहराया भी जा रहा है। इस दौरान पिछले कुछ दिन में ही ट्रांजिट कैंप से 900 के करीब चादर गायब हो गई हैं। 

रोजाना यहां से सैकड़ों लोगों को रवाना किया जा रहा है, लिहाजा अधिकारियों को यह भी पता नहीं चल पा रहा कि कौन चादर ले जा रहा है। कोरोना संक्रमण को देखते हुए लोगों के सामान की जांच भी करना संभव नहीं है। लिहाजा, चादरें गायब होने का सिलसिला जारी है। फिर भी प्रशासन ठहरने वाले लोगों से अपील कर रहा है कि ट्रांजिट कैंप को व्यवस्थित रखने में उनका सहयोग करें। 

संस्थागत क्वारंटाइन सेंटर से टोटियां गायब 

कंडोली स्थित सोना हॉस्टल में बनाए गए संस्थागत क्वारंटाइन सेंटर के पांच कमरों से नल की टोटियां गायब करने का मामला सामने आया है। इस बात का पता तब चला, जब लोगों को शिफ्ट करने के बाद सेनिटाइजेशन किया जा रहा था। इसी तरह एक स्थान पर टॉयलेट शीट पर पानी की बोतल डाल दी गई। 

यह भी पढ़ें: मिठाई की दुकान में लगाई सेंध, पुलिस ने चंद घंटों में आरोपित को किया गिरफ्तार

कुछ अन्य जगह भी क्वारंटाइन सेंटरों की संपत्ति को क्षति पहुंचाने की बात सामने आ रही है। क्वारंटाइन सेंटरों की नोडल अधिकारी मीनाक्षी पटवाल के मुताबिक प्रशासन अब अपने खर्च पर संबंधित नुकसान की भरपाई करेगा। उन्होंने बताया कि अधिकतर लोग नियमों का पालन कर रहे हैं। ऐसे लोगों की संख्या बेहद कम है जो अव्यवस्था फैला रहे हैं। सहानुभूति के तौर पर ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की जा रही।

यह भी पढ़ें: साले ने ही किए थे जीजा के घर से जेवरात चोरी, चढ़ा पुलिस के हत्थे

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस