देहरादून, जेएनएन। अधिकारियों के दिए टास्क को पूरा न करने और पुलिसिंग में लापरवाही मिलने पर शनिवार को एसएसपी ने जिले के 31 पुलिस कर्मियों से पुलिस लाइन के मैदान में दौड़ लगवाई। दौड़ के दौरान कई पुलिस कर्मी बीच में ही हांफते हुए बैठ गए और दोबारा गलती न करने का भरोसा दिलाते हुए माफी मांगने लगे। एसएसपी अरुण मोहन जोशी ने चेतावनी दी है कि भविष्य में कार्य के प्रति लापरवाही पाई गई तो इससे अधिक सख्त कार्रवाई की जाएगी। 

अक्टूबर की मासिक अपराध समीक्षा के दौरान एसएसपी अरुण मोहन जोशी ने कार्य के प्रति लापरवाह पुलिस कर्मियों को चिह्नित करते हुए सख्त कार्रवाई का आदेश दिया था। लापरवाह पुलिसकर्मियों को चिह्नित करने की जिम्मेदारी क्षेत्राधिकारियों को दी गई थी। इसके लिए प्रशिक्षु क्षेत्राधिकारियों को भी एक-एक थाने की जिम्मेदारी दी गई थी। शुक्रवार को सीओ की ओर से आई रिपोर्ट में 31 पुलिस कर्मियों के नाम गिनाए गए, जिन पर ठीक तरह से दायित्वों का निर्वहन न करने का आरोप लगा था।

इनमें तीन दारोगा, 22 पुरुष कांस्टेबल, चार महिला कांस्टेबल और दो हेड कांस्टेबल शामिल थे। इन पुलिस कर्मियों को एसएसपी ने रात में पुलिस लाइन में आमद कराते हुए परेड में मौजूद रहने का हुक्म वायरलेस सेट के जरिये प्रसारित कर दिया था। शनिवार की सुबह इन सभी पुलिसकर्मियों ने ग्राउंड के दस-दस चक्कर लगाए और परेड में भी शामिल हुए। 

ये हुए दंडित 

दारोगा: कोतवाली, सीपीयू और नेहरू कॉलोनी से एक-एक 

हेड कांस्टेबल: ट्रैफिक-1, कैंट-1 

पुरुष कांस्टेबल: डालनवाना-1, ट्रैफिक-2, कैंट-1, रायपुर-3, कोतवाली-1, सहसपुर-2, सीपीयू-9, पटेलनगर-3 

महिला कांस्टेबल: कैंट-1, कोतवाली-1, नेहरू कॉलोनी-1, सहसपुर-1 

यह भी पढ़ें: अनशन पर बैठे आयुष छात्रों की पुलिस के साथ हुई तीखी झड़प

Posted By: Raksha Panthari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप