देहरादून, राज्य ब्यूरो। पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव हरीश रावत ने त्रिवेंद्र मंत्रिमंडल में रिक्त पद भरे नहीं जाने पर चुटकी ली। सवालिया अंदाज में उन्होंने कहा कि जिस राज्य में कोरोना के कारण मंत्रिमंडल का विस्तार नहीं हो पा रहा है, तो नौकरियों के लिए भर्तियां, स्वरोजगार व विकास किस तरह हो सकता है।

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत प्रदेश सरकार और सत्तारूढ़ दल भाजपा पर हमला करने का कोई मौका नहीं चूक रहे हैं। हाल ही में पहले मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और फिर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने कहा था कि कोरोना नियंत्रण में आने पर राज्य मंत्रिमंडल में रिक्त पदों को भरा जाएगा। मंत्रिमंडल में रिक्त पदों को भरने का मामला लंबे समय से लटक रहा है। ऐसे में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने अपने ही अंदाज में सरकार और भाजपा को निशाने पर लिया। 

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार के कार्यकाल में सोलर पावर के क्षेत्र में पांच किलोवाट का प्लांट लगाने की योजना शुरू हुई। इस प्लांट को नौजवान अपने घर, आंगनबाड़ी में कहीं पर भी लगा सकता था। उन्होंने आश्चर्य जताया कि मौजूदा सरकार ने उक्त योजना को छोड़ दिया। यदि सरकार का लक्ष्य बेरोजगार है तो फिर जिस योजना को पिछली सरकार न प्रारंभ किया, उसको आगे बढ़ाना ही पड़ेगा।

यह भी पढ़ें: राम मंदिर पर आखिर कांग्रेस ने तोड़ी चुप्पी, कहा कि भगवान राम में हमारी भी आस्था

सरकार को आईना दिखा रहे हरीश रावत: प्रीतम 

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत त्रिवेंद्र सरकार को आईना दिखाने गैरसैंण जा रहे हैं। मंगलवार को प्रदेश कांग्रेस भवन में मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने की घोषणा की, लेकिन उसके बाद भूल गई। हरीश रावत सरकार को उसकी घोषणा को याद दिलाने गैरसैंण जा रहे हैं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने भाजपा विधायकों के वेतन-भत्ते में 30 फीसद की कटौती नहीं होने को लेकर भी भाजपा सरकार और संगठन पर हमला बोला। 

यह भी पढ़ें: पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत नौ अगस्त को पहुंचेंगे गैरसैंण

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस