रानीखेत, अल्मोड़ा [जेएनएन]: गर्मी बढने के साथ ही जंगल की आग वन महकमे के लिए चुनौती बन गई है। सौनी के जंगल धू-धू कर जल रहे हैं। आग बुझाने में वन मकहमा लाचार बना हुआ है। 

जंगलों की आग के प्रति जनचेतना अभियान, जनसहभागिता के आह्वान के बावजूद अब भी लोग संवेदनहीन बने हैं। यही वजह है कि सौनी का जंगल धू-धू कर जल रहा है। 

रामनगर रानीखेत हाईवे से सटे सौनी के जंगल को आग ने चपेट में ले लिया है। इससे लाखों की वन संपदा को नुकसान पहुंचा है। वनाग्नि से चीड़ के कई विशालकाय पेड़ भी धराशाही हो गए। वन विभाग की टीम रेंजर उमेश चंद्र पांडे के साथ मौके पर डटी है, लेकिन आग बुझाने के उपाय कारगार साबित नहीं हो रहे हैं। 

यह भी पढ़ें: राजाजी टाइगर रिजर्व में आग, बुझाने में छूटे पसीने

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में साढ़े तीन लाख हेक्टेयर जंगल को आग से बचाना चुनौती

यह भी पढ़ें: रानीखेत में धू-धू कर जला भावी मिनी कॉर्बेट, लाखों का नुकसान 

Posted By: Bhanu