Move to Jagran APP

UP Police Transfer: लोकसभा चुनाव खत्म होते ही चली तबादला एक्सप्रेस, डॉ. चारू बनीं सीओ सिटी

लोकसभा चुनाव खत्म होने के बाद पुलिस अधीक्षक डॉ. यशवीर ने रविवार को पुलिस क्षेत्राधिकारियों के कार्यक्षेत्र में परिवर्तन कर दिया। 24 घंटे पूर्व किये गए तबादले में संशोधन करते हुए उन्होंने हाथीनाला थाना प्रभारियों के भी कार्यक्षेत्र बदल दिये। इसके साथ चौकी प्रभारियों की भी तैनाती में संशोधन किया गया है। पुलिस अधीक्षक ने लंबे समय से क्षेत्राधिकारी नगर रहे राहुल पांडेय को घोरावल की जिम्मेदारी सौंपी है।

By julfequar haider khan Edited By: Abhishek Pandey Published: Tue, 11 Jun 2024 11:10 AM (IST)Updated: Tue, 11 Jun 2024 11:10 AM (IST)
डा. चारू बनीं सीओ सिटी, राहुल को घोरावल की जिम्मेदारी

संवाद सहयोगी, सोनभद्र।  लोकसभा चुनाव खत्म होने के बाद पुलिस अधीक्षक डॉ. यशवीर सिंह ने रविवार को पुलिस क्षेत्राधिकारियों के कार्यक्षेत्र में परिवर्तन कर दिया। 24 घंटे पूर्व किये गए तबादले में संशोधन करते हुए उन्होंने जुगैल व हाथीनाला थाना प्रभारियों के भी कार्यक्षेत्र बदल दिये। इसके साथ चौकी प्रभारियों की भी तैनाती में संशोधन किया गया है।

पुलिस अधीक्षक ने लंबे समय से क्षेत्राधिकारी नगर रहे राहुल पांडेय को घोरावल की जिम्मेदारी सौंपी है। घोरावल के हर्ष पांडे को क्षेत्राधिकारी ओबरा और क्षेत्राधिकार ओबरा डा. चारू द्विवेदी को तत्काल प्रभाव से क्षेत्राधिकारी नगर बनाया है। इसके अलावा एसपी ने थाना प्रभारी के किए गए स्थानांतरण में आंशिक बदलाव किया है।

उन्होंने थाना ओबरा से विशेष जांच प्रकोष्ठ के प्रभारी बनाए गए देवीवर शुक्ला को प्रभारी निरीक्षक थाना जुगैल की जिम्मेदारी दी है, जबकि जुगैल के प्रभारी भैया शिवप्रसाद सिंह को प्रभारी निरीक्षक हाथीनाला बनाया है।

हाथीनाला में प्रभारी निरीक्षक रहे प्रणय प्रसून श्रीवास्तव फिर एसपी के पीआरओ, प्रभारी मीडिया सेल बनाए गए हैं। इसके अलावा एसपी ने निरीक्षक महेंद्र यादव का एसपी के पीआरओ पद पर किये गए तबादले को संशोधित करते हुए उन्हें विशेष जांच प्रकोष्ठ की जिम्मेदारी दी है।

एसपी ने रेणुसागर चौकी प्रभारी संजय कुमार सिंह को चौकी प्रभारी बीना, सरीमन सोनकर चौकी प्रभारी नई बाजार, श्रीकांत राय को चौकी प्रभारी चननी बनाया है। उन्होंने कुछ उपनिरीक्षकों के साथ ही 14 आरक्षी और मुख्य मुख्य आरक्षी का भी कार्य क्षेत्र परिवर्तित कर दिया है।

इसे भी पढ़ें: पूर्वांचल की राजनीति का 'पावर सेंटर' बना गोरखपुर, भाजपा ने सोशल इंजीनियरिंग का फार्मूला किया फिट


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.