सोनभद्र (जेएनएन)। मानसून सत्र में जब झमाझम बारिश होती है, हर आदमी अपने घरों में रहता है, उसी समय नक्सली सुरक्षित ठिकानों की तलाश में लग जाते हैं। बरसात आने पर ऐसा हर साल होता है। इस बार नक्सली अपने इस मंसूबे में कामयाब न होने पाएं इसके लिए चार राज्यों की टीम ने संयुक्त रूप से रणनीति तैयार की है। उसी रणनीति के तहत जंगलों व पहाड़ों में ए लेबल की कांबिंग शुरू कर दी गई है। सूत्रों के अनुसार बारिश के दिनों में नक्सली किसी घटना को अंजाम न देने पायें इसलिए मध्य प्रदेश, झारखंड, छत्तीसगढ़ व बिहार राज्यों की पुलिस के साथ साझा रणनीति तैयार की गई है। इस रणनीति के तहत जंगली व पहाड़ी इलाकों में कांबिंग अभियान चलाया जा रहा है। 

यह भी पढ़ें: काम बोलता है, सपा के अच्छे कार्यों को झुठला नहीं सकती भाजपाः अखिलेश

बार्डर इलाकों में पूरी सतर्कता 

पुलिस सुत्रों के अनुसार अगर बिहार बार्डर पर कांबिंग होगी तो बिहार पुलिस और यूपी की सोनभद्र पुलिस साथ रहेगी। इसी तरह मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और झारखंड के साथ भी कांबिंग चल रही है। कांबिंग केवल जंगलों में ही नहीं उन पहाड़ी इलाकों में भी होनी है जहां से नक्सलियों के आने की संभावना अधिक होती है। अपर पुलिस अधीक्षक नक्सल डा. अवधेश सिंह ने बताया कि गतदिनों चारों प्रांतों के पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक कर इस रणनीति पर चर्चा भी हुई थी। बार्डर के इलाकों में पूरी सतर्कता बरती जा रही है। 

यह भी पढ़ें: Cabinet decision: सपा शासन की नियुक्तियों की सीबीआइ जांच होगी

सीआरपीएफ और खुफिया साथ

बरसात के दिनों में नक्सलियों की मंशा पर पानी फेरने के लिए बिहार, छत्तीसगढ़, झारखंड व मध्य प्रदेश पुलिस के साथ ही सीआरपीएफ और खुफिया विभाग की टीम भी है। इन सभी के साथ समन्वय स्थापित करके लगातार संदिग्धों की एक-एक गतिविधि पर नजर रखी जा रही है। पुलिस विभाग के अनुसार खुफिया विभाग से जुड़े लोगों की तरफ से मिलने वाले इनपुट के आधार पर गहन जांच की जाती है। हालांकि अभी किसी तरह कोई खास सूचना नहीं प्राप्त हुई है। 

यह भी पढ़ें: Battle after death: ऐसा गांव जहां मौत के बाद दो गज जमीन के लिए जंग

नक्सल क्षेत्रों में बारिश में विशेष सतर्कता 

सूत्रों के मुताबिक गत कुछ ही दिनों में सीआरपीएफ के उच्चाधिकारी भी जिले में आकर मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, बिहार और झारखंड की सीमाओं पर जाएंगे और वहां की स्थिति से रूबरू होंगे। पुलिस अधीक्षक सोनभद्र आरपी सिंह ने कहा कि नक्सल क्षेत्रों में बारिश के दिनों में हर बार विशेष सतर्कता बरती जाती है। जवान लगातार कांबिंग भी करते हैं। इस बार सोनभद्र के साथ ही बार्डर के दूसरे राज्यों की पुलिस व सीआरपीएफ भी चौकस है। लगातार कांबिंग की जा रही है। 

यह भी पढ़ें: आस्था-संस्कृति के योग नागपंचमी पर शिव योग का अनूठा संयोग

कहां लगती जिले की सीमा... 

प्रांत             जिला 

बिहार         भभुआ व रोहतास 

मध्य प्रदेश    सींधी व ङ्क्षसगरौली 

छत्तीसगढ़     सरगुजा व बलरामपुर 

झारखंड        गढ़वा

Posted By: Nawal Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप