नोए़डा, जागरण संवाददाता। Noida Greater Noida Expressway : देश की राजधानी दिल्ली से सटे नोएडा में यातायात का दबाव बढ़ता जा रहा है। इसके लिए सभी सड़कों पर रफ्तार की सीमा को दोबारा से तय किया जा रहा है। मुख्य सड़कों पर 60, अंदर की सड़कों पर 40 और नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस वे पर 80 किमी प्रति घंटा रफ्तार होगी।

100 से घटकर 80 होगी रफ्तार

गौरतलब है कि नोएडा ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे पर अब तक हल्के वाहनों के लिए गति सीमा 100 किलोमीटर प्रतिघंटा है। यह पूरा एक्सप्रेस वे सर्विलांस पर है। इसका एक प्रस्ताव तैयार किया गया है। प्रस्ताव को मुख्य कार्यपालक अधिकारी रितु माहेश्वरी के सामने रखा जाएगा।

स्पीड डिटेक्शन कैमर भी किए जाएंगे फिक्स

वहां से हरी झंडी मिलते ही साइन बोर्ड तैयार कर सड़कों पर लगाया जाएगा। इसके साथ ही आइटीएमएस के तहत लगे स्पीड डिटेक्शन कैमरों को भी इसी स्पीड के अनुसार फिक्स किया जाएगा। नोएडा ट्रैफिक सेल उपमहाप्रबंधक एसपी सिंह ने बताया कि नोएडा को दिल्ली और अन्य शहरों से जोड़ने के लिए तीन मुख्य सड़क है। इन सड़कों के दोनों ओर सेक्टर और गांव बसे हैं। इसमें मास्टर प्लान रोड नंबर-1 , 2 और 3 है।

अंदरूनी सड़कों पर भी कम होगी रफ्तार

इसके अलावा डीएससी (दादरी सुरजपुर छलेरा) रोड है। यह रोड दिल्ली को नोएडा और ग्रेटर नोएडा वाया कुलेसरा होकर जोड़ती है। इन चारों रोड पर अधिकतम स्पीड लिमिट 60 किमी प्रतिघंटा रखने का प्रस्ताव है। गौरतलब बै कि डीएससी रोड शहर के बड़े बाजार यानी अट्टा, भंगेल, बरौला, सेक्टर-18 को जोड़ता है। ऐसे में यहां रफ्तर को कम की जाएगी।

माडल सड़कों पर काम तेज

नोएडा की इन मुख्य सड़कों को माडल रोड के रूप में विकसित किया जाना है। ट्रायल रन (पायलट प्रोजेक्ट) तैयार किया जा रहा है। जिसका काम अंतिम चरण में है। ट्रायल माडल बनने के बाद इसे मुख्य कार्यपालक अधिकारी के समक्ष रखा जाएगा। एप्रूवल मिलते ही मुख्य सड़कों को माडल रोड में कनवर्ट किया जाएगा।

Delhi Woman Bus Driver: देखते ही आप भी लेना चाहेंगे कोमल, शर्मिला और संतोष के साथ सेल्फी

आंध्र प्रदेश व हरियाणा के बाद दिल्ली में हैरान करने वाला मामला, क्लासरूम में छात्र बेहोश; कुछ देर में हो गई मौत

Edited By: JP Yadav

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट