मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। CBI In Moradabad : किसानों को ऋण दिलाने वाला रैकेट क्षेत्र में सक्रिय है। प्रथमा यूपी ग्रामीण बैंक के प्रबंधक से लेकर कर्मचारियों की मिलीभगत से किसानों को ऋण दिलाने के नाम पर रिश्वतखोरी का धंधा चल रहा है। बैंक की शाखा खुलते ही दलाल पहुंच जाते हैं और पूरे दिन वहीं रहते हैं। ग्रामीणों का कहना है कि यह रैकेट बहुत पहले से सक्रिय है। जिसकी श‍िकायत प्रथमा यूपी ग्रामीण बैंक मुख्यालय के साथ ही मूंढापांडे पुलिस व बीडीसी की बैठक में भी कर चुके हैं। लेकिन, कोई कार्रवाई नहीं हुई।

सरकार सीधे बैंकों से ऋण किसानों को देने का दावा करती है। लेकिन, भोले-भाले किसान ऋण स्वीकृत कराने की प्रक्रिया को नहीं जानते, इससे बैंक प्रबंधक व कर्मचारियों की मिलीभगत से दलाल किसानों को लूट रहे हैं। कोई किसान ऋण के लिए सीधे प्रबंधक से मिलता है तो प्रबंधक खुद दलालों से बात करने को कहकर इनके चंगुल में फंसा देते हैं।

पिछड़ा क्षेत्र है लालाटीकर : रामगंगा नदी के खादर में बसा लालाटीकर गांव काफी पिछड़ा हुआ है। यहां पुलिस व बैंक के उच्चाधिकारी भी नहीं पहुंचते। इसी का फायदा उठाकर दलालों का रैकेट सक्रिय है। क्षेत्र में अवैध खनन का मामला भी यहां चोरी-चोरी खूब हो रहा है। कोई रोक-टोक नहीं है।

बैंक शाखा में एक महिला से लूट लिए थे 60 हजार : कुछ दिन पहले लालाटीकर की प्रथमा यूपी ग्रामीण बैंक की शाखा के अंदर से एक महिला से 60 हजार रुपये काउंटर से उड़ा लिए थे। शाखा में बैंक प्रबंधक से शिकायत की गई थी लेकिन, महिला के 60 हजार रुपये अभी तक नहीं मिल पाए हैं। शाखा में सीसीटीवी भी बंद मिले थे। इन्हें बंद रखने में भी बैंक कर्मचारियों का खेल है। सीसीटीवी में रिश्वत लेते ट्रेस हो सकते हैं, इसलिए बंद कर दिया जाता है या खराब। 

यह भी पढ़ें :-

मुरादाबाद में सीबीआइ ने प्रथमा बैंक के शाखा प्रबंधक को रिश्वत लेते दबोचा, यहां पढ़ें क्‍या है पूरा मामला

CBI In Moradabad : पिछले साल भी एक बैंक महाप्रबंधक को रिश्वत लेते पकड़ा गया था, लगातार सामने आ रहे मामले

Edited By: Narendra Kumar