मेरठ, जागरण संवाददाता। परीक्षितगढ़ के दीपक त्यागी हत्याकांड को गुरुवार को 60 घंटे से अधिक समय गुजर गया। इस दौरान 50 से अधिक लोगों से पूछताछ के बाद भी नतीजा जीरो ही रहा। उधर, सिर बरामदगी को नाले, तालाब और गन्ने के खेत में चल रहा सर्च अभियान फिलहाल बंद हो गया है। वहीं, हत्यारों की गिरफ्तारी नहीं होने पर आक्रोश पनने लगा है। हालांकि एसएसपी रोहित साजवाण हत्यारों के नजदीक पहुंचने का दावा करने के साथ थाने पर डेरा डालने हुए हैं। एसओजी ने कई स्थानों पर दबिश दी लेकिन सूत्रों का कहना है अभी हत्यारे से दूर है। 

 

अगवा कर की गई थी हत्‍या 

 परीक्षितगढ़ थाना क्षेत्र के गांव खजूरी में धीरेंद्र त्यागी के बेटे दीपक त्यागी को दो दिनों तक अगवा कर हत्या कर दी थी। हत्यारे उसका सिर काटकर ले गए थे। मंगलवार सुबह गन्ने के खेत में सिर कटा शव बरामद हुआ तो आक्रोश फैल गया। मर्चरी के बाद गांव पहुंचे शव को रखकर लोगों ने हाईवे जाम कर दिया था। आश्वासनों पर जाम खुल गया लेकिन बिना सिर से अंतिम संस्कार से इंकार कर दिया था। 

बिना सिर किया था अंतिम संस्कार 

हालांकि राज्यमंत्री दिनेश खटीक सक्रिय होने पर बुधवार को गत दिवस बिना सिर के अंतिम संस्कार कर दिया था। उधर, गुरुवार खेतों में सिर बरामदगी को चलाए रेस्क्यू को बंदकर एसओजी, सर्विलांस टीम समेत कई पुलिस टीमें हत्यारों के सुरागरशी में ताबड़तोड़ दबिश देती रही। मवाना, हस्तिनापुर, मुजफ्फरनगर और मेरठ समेत कई गांवों में दबिश दी लेकिन कोई हत्थे नहीं चढ़े। वहीं, पुलिस अब तक 60 घंटे में 50 संदिग्धों से पुलिस पूछताछ कर चुकी लेकिन हत्यारों तक नहीं पहुंच सकी। देर शाम थाने पहुंचे एसएसपी ने पूरे दिन का अपडेट लिया और आवश्यक दिशा निर्देश दिए। जबकि एक बार फिर पूछताछ कर कड़ियों को जोड़ने का प्रयास किया गया। 

यह भी पढ़ें: बिना सिर के ही किया गया दीपक का अंतिम संस्कार, बरामद करने में नाकाम रही मेरठ पुलिस

सांप्रदायिक तनाव के मद्देनजर खुफिया विभाग सक्रिय 

बर्बरता तरीक से की गई दीपक की हत्या के बाद सांप्रदायिक तनाव पैदा हो रहा है। वहीं, पुलिस द्वारा मुस्लिम समाज के कई लोगों पूछताछ के लिए उठा रखा है। जबकि पूछताछ के लिए उठाए संदिग्धों में भी मुस्लिमों की संख्या ही ज्यादा है। उधर, पूछताछ में हिरासत में लिए लोगों को अभी क्लीनचिट नहीं दी और लोग थाने पर जमा हैं। धीरे-धीरे पनप रहे आक्रोश को देखते हुए खुफिया विभाग भी सक्रिय हो गया। जबकि लखनऊ से भी उक्त मामले में हर दो घंटे में इनपुट मांगा जा रहा है।  

Edited By: Parveen Vashishta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट