हापुड़, जागरण संवाददाता। रबी फसलों की बुवाई के समय समितियों पर DAP खाद उपलब्ध न होने से किसानों को इधर-उधर भटकना पड़ रहा है। जरूरत के मारे किसान बिना खाद के ही आलू, सरसों, गेहूं, मसूर, मटर आदि फसलों की बुवाई करने को विवश हो रहे हैं। तहसील क्षेत्र के साधन सहकारी समिति में DAP खाद उपलब्ध न होने से समिति से जुड़े दर्जनों गांवों के किसानों को खाद नहीं मिल पा रही है जिससे किसानों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

अधिकारियों के कान पर नहीं रेंग रही जूं

क्षेत्र की समिति पर डीएपी (डाइ अमोनियम फास्फेट) के बाद अब यूरिया को लेकर मारामारी बनी हुई है। किसानों को खाद नहीं मिल रही है। इस मामले को लेकर शुक्रवार को सिंभावली की गन्ना समिति केंद्र के बाहर किसानों की भीड़ जमा रही। यहां पर किसानों को DAP और यूरिया न मिलने से निराश होकर वापस लौटना पड़ा। किसानों का कहना है कि बुवाई के समय DAP और यूरिया की कमी से दिक्कत हो रही है, लेकिन अधिकारी कोई सुनवाई करने के लिए तैयार नहीं है।

यूरिया न मिलने से हो रही है दिक्कत

वह पहले डीएपी खाद के लिए सरकारी व निजी दुकानों पर भटकते रहे और अब यूरिया खाद के लिए उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने बताया कि गेहूं की फसल की पहली सिंचाई के लिए अब यूरिया खाद की सख्त आवश्यकता है, लेकिन उन्हें खाद मिलने मुश्किल हो रहा है। पवन कुमार किसान

फसल के उत्पादन पर पड़ेगा प्रभाव

यदि यूरिया खाद को गेहूं की फसल में नहीं डाला गया तो फसल का अच्छा उत्पादन नहीं हो पाएगा। उन्होंने बताया कि वह पिछले एक सप्ताह से लगातार समिति में भटक रहे हैं, लेकिन उन्हें खाद उपलब्ध नहीं हो रही है। इस मामले को लेकर किसानों बेहद नराज है। 

यह भी पढ़ें- Hapur News: आसपास के किसानों के बीच मिसाल बनीं गढ़मुक्तेश्वर की राजदुलारी

यह भी पढ़ें- Hapur News: भाकियू के युवा राष्ट्रीय अध्यक्ष गौरव टिकैत ने कहा किसान विरोधी हैं केंद्र और प्रदेश सरकार

Edited By: Abhi Malviya

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट