Move to Jagran APP

Ghaziabad Crime: पेट दर्द की शिकायत पर भर्ती कराई किशोरी की मौत, परिजनों का हंगामा

गाजियाबाद में पेट दर्द की शिकायत पर एमएमजी अस्पताल में भर्ती कराई 16 वर्षीय किशोरी छाया की रविवार को मौत हो गई। स्वजन का आरोप है कि अस्पताल में सही इलाज न मिलने और दुर्व्यवहार की वजह से किशोरी की तबीयत बिगड़ गई। इसके बाद उसकी मौत हो गई। मौत को लेकर रविवार को किशोरी के स्वजन ने अस्पताल में हंगामा किया।

By Sonu Suman Edited By: Sonu Suman Published: Sun, 12 May 2024 10:43 PM (IST)Updated: Sun, 12 May 2024 10:43 PM (IST)
पेट दर्द की शिकायत पर भर्ती कराई किशोरी की मौत।

जागरण संवाददाता, गाजियाबाद। पेट दर्द की शिकायत पर सात मई यानी मंगलवार को स्वजन ने जिला एमएमजी अस्पताल में भर्ती कराई 16 वर्षीय किशोरी छाया की रविवार को मौत हो गई। स्वजन का आरोप है कि अस्पताल में सही इलाज न मिलने और दुर्व्यवहार की वजह से किशोरी की तबीयत बिगड़ गई। इसके बाद उसकी मौत हो गई।

मौत को लेकर रविवार को किशोरी के स्वजन ने अस्पताल में हंगामा किया। साथ ही उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व मानवाधिकार आयोग को पत्र लिखकर व उत्तर प्रदेश व आइजीआरएस पोर्टल पर शिकायत भी की।

16 वर्षीय छाया की थी तबीयत खराब

विजय नगर के भूण भारत नगर की रहने वाली छाया कि मां मधु ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर शिकायत करते हुए बताया कि उनकी 16 वर्षीय पुत्री छाया की तबीयत खराब थी। जिस पर सात मई यानी मंगलवार को छाया को जिला एमएमजी अस्पताल में भर्ती कराया था। उसका इलाज चल रहा था।

बताया गया कि उनकी बेटी की तबीयत ज्यादा खराब हो रही है। उसको रक्त की जरूरत है। जिसके बाद मधु के भाई किट्टू ने किशोरी के लिए रक्त दिया था। आरोप है कि किशोरी को वह खून नहीं चढ़ाया गया। आरोप है कि जब सही इलाज न मिलने की शिकायत अधिकारियों और चिकित्सकों से की गई तो कहा कि ये लड़की ड्रामा कर रही है। इसे कुछ नहीं हुआ है यह मानसिक रूप सेपरेशान है।

12 मई को हुई थी किशोरी की मौत

सही इलाज नहीं मिलने की वजह से 12 मई को किशोरी की मौत हो गई। स्वजन के साथ दुर्व्यवहार करते हुए उन्हें अस्पताल से भगा दिया गया। शिकायतकर्ता मां का कहना है कि चिकित्सकों की निर्दयता की वजह से उनकी बेटी की मौत हो गई, उम्मीद है कि शासन प्रशासन द्वारा मामले पर कड़ी कार्रवाई कर उनकी बेटी को न्याय दिलाया जाएगा।

जिला एमएमजी अस्पताल के सीएमएस डॉ. राकेश सिंह का कहना है कि वह बुखार और खून की कमी से बीमार थी। बुखार में खून नहीं चढ़ाया गया। दुर्व्यवहार की शिकायत पर दो सदस्यीय टीम जांच के लिए गठित की गई है।

ये भी पढ़ें- नॉनवेज नहीं खाने पर दोस्तों को भेजी पत्नी की अंडरगारमेंट की फोटो, महिला ने रोते हुए बयां की पति की गंदी हरकत


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.