गाजियाबाद [सौरभ पांडेय]। Delhi Meerut Regional Rapid Transit System: दिल्ली मेरठ रैपिड रेल के तहत हाईस्पीड (रैपिड) रेल के कास्टिंग यार्ड के लिए गाजियाबाद के वसुंधरा सेक्टर-आठ में जगह मिलते ही अब साहिबाबाद स्टेशन का डिजाइन इसी माह के अंत तक तैयार कर लिया जाएगा। रैपिड रेल के साहिबाबाद स्टेशन से मेट्रो स्टेशन और रोडवेज के बाद डिपो को जोड़ने की तैयारी की जा रही है। इसे देखते हुए ही नेशनल कैपिटल रीजन ट्रांसपोर्ट कापरेरेशन (एनसीआरटीसी) ने स्टेशन का डिजाइन तैयार करवाने के लिए टेंडर जारी किए थे। जल्द ही स्टेशन का डिजाइन तैयार कर काम शुरू कर दिया जाएगा।

रैपिड रेल प्रोजेक्ट निर्माण के पहले चरण के तहत नेशनल कैपिटल रीजन ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन (National Capital Region Transport Corporation) ने पिछले दिनों वसुंधरा (साहिबाबाद) स्टेशन के डिजाइन तैयार करने के लिए टेंडर छोड़े थे। उम्मीद है कि फरवरी के अंत तक डिजाइन तैयार हो जाएगा। इसके तहत वसुंधरा सेक्टर आठ की ग्रीन बेल्ट के सामने साहिबाबाद औद्योगिक क्षेत्र की ग्रीन बेल्ट पर स्टेशन बनाया जाएगा। स्टेशन दो मंजिला होगा, जिसमें पहली मंजिल पर टिकट काउंटर आदि होंगे, जबकि दूसरे फ्लोर पर प्लेटफॉर्म होगा। औद्योगिक क्षेत्र में बने साहिबाबाद डिपो के लिए सीधे सीढ़ियां और लिफ्ट बनाई जाएंगी। वहीं, वसुंधरा की ग्रीन बेल्ट पर बनने वाले मेट्रो स्टेशन को जोड़ने के लिए स्काईवॉक बनाने का प्रस्ताव है।

लिंक रोड पर एक ओर रैपिड रेल, दूसरी ओर मेट्रो

रैपिड रेल दिल्ली के सराय काले खां से मेरठ तक जाएगी। यूपी गेट से गाजियाबाद में दाखिल होगी और लिंक रोड की ग्रीन बेल्ट से वसुंधरा रेड लाइट पहुंचेगी।

जल्द शुरू होगा स्टेशन बनाने का काम

सुधीर कुमार शर्मा (पीआरओ, एनसीआरटीसी) का कहना है कि स्टेशनों के डिजाइन निर्माण के लिए लोड टेस्टिंग भी की जा चुकी है। जल्द ही स्टेशन के डिजाइन तैयार कर स्टेशनों का काम भी शुरू कर दिया जाएगा।

यह भी जानें

  • रैपिड रेल मार्च 2024 से चलने लगेगी और दिल्ली से मेरठ तक का किराया 165 रुपये होगा।
  • एसी कोच में बैठकर 82.13 किमी का सफर सिर्फ 60 मिनट में पूरा किया जा सकेगा।
  • रैपिड रेल की गति करीब 160 किमी प्रति घंटा होगी, जो मेट्रो से दोगुनी है।
  • दिल्ली से मेरठ के बीच 24 स्टेशन होंगे। डीपीआर के मुताबिक, एक बिजनेस कोच के अलावा महिलाओं व दिव्यांगों के लिए अलग से कोच होंगे।
  • बिजनेस क्लास के एकमात्र कोच में सुविधाएं ज्यादा रहेंगी। हालांकि, डीपीआर में इसका किराया तय नहीं किया गया है।
  • दिल्ली में सराय काले खां से शुरू होकर कौशांबी के रास्ते कॉरिडोर गाजियाबाद में प्रवेश करेगा। मदन मोहन मालवीय मार्ग के किनारे-किनारे साहिबाबाद तक बनेगा। रेलवे लाइन से इसे टर्न किया जाएगा। फिर कॉरिडोर रेलवे लाइन के साथ बनेगा।
  • वसुंधरा के पास हिंडन रेलवे पुल से मोड़ते हुए एलिवेटेड रोड के ऊपर से इसे जीटी रोड स्थित मेरठ तिराहे तक बनाया जाएगा। इस प्रोजेक्ट में 31632 करोड़ रुपए तक का खर्चा आ सकता है। इसमें हर स्टेशन के बीच दस किलोमीटर का फासला होगा।

देश की यह पहली रेल परियोजना है, जिसमें एक ट्रैक पर दो तरह की ट्रेन दौड़ेंगी। मेरठ में चार स्टेशनों पर रैपिड रेल व 12 स्टेशनों पर मेट्रो का ठहराव होगा। बेगम पुल कॉमन स्टेशन होगा।

सरायकालेखां से दुहाई तक हर पांच मिनट में ट्रेन मिलेगी। इसके संचालन में यूरोपियन ट्रेन सिग्नल सिस्टम का उपयोग किया जाएगा।

नेशनल कैपिटल रीजन ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन के सीपीआरओ सुधीर शर्मा ने बताया कि मार्च 2024 से रैपिड रेल चलने लगेगी। किराया प्रति किमी दो रुपये होगा।

125 किलोमीटर की सीमा में स्टेशन

मेरठ साउथ, परतापुर, रिठानी, शताब्दीनगर, ब्रह्मपुरी, मेरठ सेंट्रल, भैंसाली, बेगमपुल, एमईएस कॉलोनी, डोरली, मेरठ उत्तर, मोदीपुरम (स्टेशन कम डिपो)।

Metro: मेट्रो ट्रेन के अंदर करें बर्थ डे पार्टी या प्री वेडिंग, देश को मिलने जा रही बड़ी सौगात

दिल्ली-एनसीआर की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

दिल्ली चुनाव से जुड़ी खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस