Move to Jagran APP

Bank Account: दुकानदार के खाते में अचानक आ गई 15 अंकों की रकम, बैलेंस चेक करने पर उड़ गए होश, बैंक अधिकारी बोले…

पुष्पेंद्र सिंह का यस बैंक में खाता है। वह गांव फिरोजपुर बगद में साइबर कैफे व खल-चोकर की संयुक्त दुकान भी चलाते हैं। उनके खाते में पहले से 19363 रुपये पड़े थे। उनका कहना है कि सोमवार को अचानक से उनके खाते में 15 अंकों की धनराशि यानी अरबों-खरबों रुपये दर्शाई जाने लगी। खाता भी होल्ड कर दिया गया। पहले से जमा 19363 रुपये माइनस में दिख रहे हैं।

By Jagran News Edited By: Shivam Yadav Published: Mon, 10 Jun 2024 11:20 PM (IST)Updated: Mon, 10 Jun 2024 11:20 PM (IST)
Bank Account: दुकानदार के खाते में अचानक आ गई 15 अंकों की रकम। प्रतीकात्मक तस्वीर

जागरण संवाददाता, गजरौला। बैंक से जुड़ा एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। साइबर कैफे संचालक के खाते में अरबों-खरबों की रकम पहुंचने पर बैंक ने खाते को होल्ड कर दिया है। जो धनराशि पहले से खाते में पड़ी थी वो, अब माइनस में दिख रही है। ऐसे में खाताधारक परेशान हैं और उन्होंने बैंक अधिकारियों से इसकी शिकायत की है।

यह है मामला

मंडी धनौरा क्षेत्र के गांव पतेई एमन निवासी पुष्पेंद्र सिंह का गजरौला की यस बैंक में खाता है। वह गांव फिरोजपुर बगद में साइबर कैफे व खल-चोकर की संयुक्त दुकान भी चलाते हैं। उनके खाते में पहले से 19363 रुपये पड़े थे।

उनका कहना है कि सोमवार को अचानक से उनके खाते में 15 अंकों की धनराशि यानी अरबों-खरबों रुपये दर्शाई जाने लगी। खाता भी होल्ड कर दिया गया। पहले से जमा 19363 रुपये माइनस में दिख रहे हैं। 

हालांकि, जो संख्या खाते में दर्शायी जा रही है, उसमें बीच में अंग्रेजी का शब्द-डी लिखा हुआ है। 

इस संबंध में बैंक में पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई तो बैंक अधिकारियों ने यह कहकर टाल दिया कि कोलकाता से खाता होल्ड कर दिया गया है। लेनदेन अभी नहीं होगा। यह धनराशि कहां से आई है। इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है। 

ऐसे में खाताधारक ने अब इस मामले में पुलिस व साइबर सेल में शिकायत करने की बात कही है।

यह भी पढ़ें: दरवाजे पर थी बारात, शेरवानी पहनकर तैयार था… इतने में आ गई ‘वो’ तो दंग रह गया दूल्हा, नहीं कर पाया शादी

यह भी पढ़ें: रेसलर से हकीम बने फेमस यूट्यूबर अब्दुल्ला पठान पर सामूहिक दुष्कर्म का केस दर्ज, लड़की बोली- नौकरी देने के बहाने...


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.