अलीगढ़, जागरण संवाददाता। Aligarh News : मंगलायतन विश्वविद्यालय के फार्मेसी विभाग के विद्यार्थियों व शिक्षकों ने गुलाबी नगरी जयपुर के निम्स विश्वविद्यालय में आयोजित होने वाली अंतरराष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस में सहभागिता की। इसके साथ ही शोध पत्र प्रस्तुत कर पोस्टर प्रतियोगिता में भी भाग लिया।

इसे भी पढ़ें *Aligarh News : बाेर्ड परीक्षा के लिए विद्यार्थियों की मजबूत तैयारी के लिए लगेगी गूगल क्‍लासरूम, ऐसी है तैयारी*

प्रतिभागियों को दिए गए प्रमाण पत्र

फार्मेसी विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. देव प्रकाश ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय कांफ्रेंस उच्च गुणवत्ता वाले नैदानिक अनुसंधान को बढ़ावा देना विषय पर आधारित थी। अपने अनुभवों को साझा करते हुए विद्यार्थियों ने बताया कि यह कांफ्रेंस हमारे विषय के लिए अत्यंत लाभदायक साबित हुई। देश के ख्यातिप्राप्त विद्वानों की शोध पत्रों के माध्यम से महत्वपूर्ण बात सिद्धांत की दृष्टि से समझ में आई। सभी प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र दिए गए।

इसे भी पढ़ें *Aligarh News : 15 हजार टीबी मरीजों की अधिसूचना का लक्ष्य, स्वास्थ्य इकाइयों पर हर माह मनेगा निक्षय दिवस*

प्रतिभागियों को दी बधाई

मंगलायतन विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. केवीएसएम कृष्णा ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि इस तरह के आयोजनों से शिक्षकों के साथ विद्यार्थियों को ज्ञान अर्जित करना चाहिए। कुलसचिव प्रो. दिनेश शर्मा का विशेष योगदान रहा। प्रो. अंकुर अग्रवाल, प्रवक्ता दिपांशु गर्ग, डा. जितेंद्र कुमार ने प्रतिभागियों को बधाई दी। इस अवसर पर महेश मिश्रा, शिवम राजपूत, राहुल कुमार, कौशल पाठक, ज्योति चौधरी आदि मौजूद रहे।

तकनीकी शब्दावली पर दो दिवसीय कार्यशाला आज से

मंगलायतन विश्वविद्यालय व वैज्ञानिक और तकनीकी शब्दावली आयोग एवं उच्च शिक्षा विभाग, शिक्षा मंत्रालय भारत सरकार के संयुक्त तत्वाधान में वैज्ञानिक और तकनीकी शिक्षा में भारतीय भाषाओं में तकनीकी शब्दावली का महत्व विषय पर दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। गुरुवार व शुक्रवार को कार्यशाला का आयोजन मंगलायतन विश्वविद्यालय के मुख्य सभागार में होगा।

देश के जाने माने शिक्षाविद व विद्वान होंगे शामिल

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि आयोग के वाइस चेयरमैन, अनिल जोशी व विशिष्ठ अतिथि ज्वाइंट डारेक्टर एमएल मीना एवं अध्यक्ष कुलपति प्रो. केवीएसएम कृष्णा होंगे। दो दिवसीय कार्यक्रम में देश के जाने-माने शिक्षाविद व विद्वान शामिल होंगे। यह जानकारी डीन रिसर्च प्रो. रवि कांत द्वारा दी गई।

Edited By: Anil Kushwaha

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट