आगरा, जागरण संवाददाता। देवेंद्र आहूजा उर्फ चिंटू, नशे के लिए इस्तेमाल होने वाले कफ सिरप की सप्लाई बांग्लादेश के साथ ही देश भर में करता है, उसका हर राज्य में नेटवर्क है। 50 हजार से कम सिरफ की सप्लाई नहीं करता है। 25 नवंबर को पश्चिम बंगाल द्वारा पकड़े गए जय रामजी की मेडिकल स्टोर के संचालक देवेंद्र आहूजा से पूछताछ में राज खुल रहे हैं।

पश्चिम बंगाल में पकड़ा था जखीरा

मालदा, पश्चिम बंगाल में कफ सिरप का जखीरा पकड़े जाने पर चिंटू गिरोह निशाने पर है। बंगाल पुलिस ने शुक्रवार को उसे मेडिकल स्टोर से गिरफ्तार कर लिया था। पूछताछ में सामने आया है कि कफ सिरप की पश्चिम बंगाल होते हुए बांग्लादेश में सप्लाई की जाती है, चिंटू गिरोह के बांग्लादेश के ड्रग पेडलर्स से संपर्क हैं। प्रदेश के कई जिलों के थोक दवा कारोबारियों से चिंटू गिरोह कफ सिरप मंगाता है, कंपनी से कफ सिरप ट्रांसपोर्ट कंपनी पर पहुंचते हैं इन्हें कार, ट्रक के माध्यम से पश्चिम बंगाल होते हुए बांग्लादेश तक पहुंचाया जाता है। 140 रुपये एमआरपी का सिरप 800 से 900 रुपये तक में बिकता था। डीलिंग भी 100 बोतल की नहीं, एक लाख बोतल की होती थी।

सात वर्ष पहले तीन हजार की नौकरी अब करोड़ों की संपत्ति

फव्वारा दवा बाजार में सात वर्ष पहले चिंटू तीन हजार रुपये महीने पर एक दवा की दुकान पर काम करता था। नशे के लिए बांग्लादेश में कफ सिरप की मांग है, यहां से वह कफ सिरप सप्लाई करने वाले गिरोह में शामिल हो गया। पांच वर्ष पहले नवाबिया मार्केट, फव्वारा में जय रामजी की मेडिकल स्टोर खोला। इसी मार्केट में उसकी 15 दुकानें हैं, कई गाड़ियों के साथ ही नोएडा में भी प्रोपर्टी बताई जा रही है। प्रतापनगर जयपुर हाउस में कोठी है।

ये भी पढ़ें...

Worlds AIDS Day 2022: HIV पाजिटिव होने के बाद इस तकनीक से बच्चे हुए निगेटिव, 18 महीने होता है ट्रीटमेंट

नेताओं से लेकर अधिकारियों से सेटिंग, पहली बार पकड़ा

देवेंद्र आहूजा की हर जगह सेटिंग है, नेताओं से लेकर अधिकारियों से संपर्क हैं। कई वर्षों से कफ सिरप की सप्लाई करने के बाद भी वह पकड़ा नहीं गया।

ये भी पढ़ें...

Good News from Agra : सेंटर स्कूल में दस हजार से ज्यादा पदों के लिए भर्तियों की तैयारी, 5 से हो सकते हैं आवेदन

गिरोह में फूट से पकड़ा गया चिंटू

गोरखपुर में नशीली दवाएं पकड़ी गईं थी। ट्रक चालक से सेटिंग कर गिरोह के जिस सदस्य ने सिरप और दवाएं भेजी थी उससे बयान में दूसरे साथी का नाम दर्ज करा दिया। फव्वारा बाजार में चर्चा है कि इस घटना के बाद गिरोह में फूट पड़ गई है। एक दूसरे को फंसाने में गिरोह के सदस्य लग गए हैं, इसके चलते ही चिंटू पकड़ा गया है। 

Edited By: Abhishek Saxena

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट