आगरा, जागरण संवाददाता। आगरा मेट्रो प्रोजेक्ट रफ्तार पकड़ रहा है। अभी हाल ही में आगरा मेट्रो की टीम ने एक उपलब्धि हासिल की है, जिसमें टनल बोरिंग मशीन (टीबीएम) मशीन के लगभग सभी पुर्जे रामलीला मैदान में आगरा मेट्रो क्रासओवर सेक्शन में पहुंच गए और बहुत जल्द लांच होने के लिए तैयार हैं। इस अवसर पर एमडी यूपीएमआरसी सुशील कुमार ने कहा कि सुरंग के निर्माण में टनल बोरिंग मशीन का मुख्य योगदान रहेगा। भूमिगत सेक्शन में मेट्रो का संचालन एवं सुरंग का सटीक ढांचा इसी पर निर्भर करता है।

टनल बोरिंग मशीन के पुर्जों में शामिल हैं

  • कटर हेड - टीबीएम मशीन का मुख्य कटर जो मलबे और कीचड़ को काटता है और मशीन के चलने के लिए रास्ता बनाता है।
  • सेगमेंट इरेक्टर: जब टीबीएम मशीन चलती है, मशीन का यह हिस्सा कंक्रीट से बने प्रीकास्ट रिंग सेगमेंट के निर्माण को सक्षम बनाता है जो एक साथ सुरंग बनाते हैं।
  • टीबीएम के अन्य हिस्सों में मेन लॉक, स्क्रू कन्वेयर और ब्रिज गैन्ट्री शामिल हैं जिन्हें भी रामलीला मैदान में उतारा गया है।

ये भी पढ़ें...

बार्सिलोना के जोस और इजाबेल इंडियन कल्चर से हुए इंप्रेस, मंदिर में लिए सात फेरे अब निभाएंगे सात वचन

कहां से कहां तक है टीबीएम रूट

  • टीबीएम को रामलीला मैदान से लांच किया जाएगा, जिसे आम भाषा में ‘लांचिंग शाफ़्ट’ कहा जाता है
  • और ताजमहल स्टेशन की ओर बढ़ेगा। शाहजहां गार्डन में ‘मिड शाफ़्ट’ का प्रयोजन दिया गया है, ताकि किसी भी आपातकाल स्थिति में बीच में ही टीबीएम को आसानी से निकाला जा सके।
  • ताजमहल के आगे पुरानी मंडी चौराहे के पास ‘रिट्रीवल शाफ़्ट’ ( जहां से टीबीएम को निकाला जाएगा) का निर्माण किया जा रहा है
  • दूसरी टीबीएम आरबीएस कॉलेज मेट्रो स्टेशन से नीचे उतारी जाएगी (लांचिंग शाफ़्ट) और जामा मस्जिद स्टेशन के पास निकाली जाएगी, यानी रेट्रीवल शाफ़्ट वहीं स्थित होगी।

टीबीएम वर्तमान में ताजमहल से जामा मस्जिद स्टेशन तक प्राथमिकता वाले 3 किलोमीटर भूमिगत खंड पर काम करेगा। उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन आगरा के लोगों को तय समय में विश्वस्तरीय मेट्रो सिस्टम देने के लिए पूरी तरह कार्य कर रहा है। 

Edited By: Abhishek Saxena

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट